Question and Answer forum for K12 Students

True Friend Essay In Hindi | सच्चा मित्र पर निबन्ध

True Friend Essay In Hindi सच्चा मित्र पर निबन्ध

  • मनुष्य सामाजिक प्राणी
  • सच्चा मित्र
  • सच्चे मित्र के उदाहरण
  • मित्र बनाना

मनुष्य अकेला नहीं रह सकता। उसे ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है जिसके समक्ष वह अपने मन के भाव प्रकट कर सके। वह जिसके साथ सुख के आनंद भरे क्षण व्यतीत कर सके। उसके दुःख और कष्टमय जीवन में जो उसका सहायक हो। वह परिवार के सदस्यों के साथ जी सकता है परंतु मन के समस्त भावों को उन पर प्रकट नहीं कर सकता। वह केवल मित्र के साथ ही मन की भावनाएँ प्रकट कर सकता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में मित्र बनाता है।

मित्र को भाई से भी बढ़कर माना जाता है। सच्चे मित्र के विषय में प्रसिद्ध विद्वान भर्तृहरि ने सत्य ही लिखा है-

पापन्निवारयति, योजयते हिताय गुह्यानि गुह्याति गुणान प्रकट करोति। आपद्गतं च न जहाति, ददाति काले, सन्मित्र लक्षणमिदं प्रवदंति संतः।

सच्चा मित्र पापकर्म करने से रोकता है। कल्याण के कार्यों में प्रवृत्त करता है। दोषों को छिपाता है। गुणों को प्रकट करता है। विपत्ति के समय साथ नहीं छोड़ता। आवश्यकता पड़ने पर सहायता करता है।

सच्चा मित्र अपने मित्र का हितैषी होता है। वह अपने मित्र को उचित परामर्श देकर सुपथ पर ले जाता है। वह मित्र के अवगुणों को दूर करता है। उसका एकमात्र लक्ष्य मित्र को अधिक-से-अधिक लाभ पहुंचाना होता है। मित्रता पावन संबंध है। इसमें किसी प्रकार का स्वार्थ नहीं होता।

बाल्यकाल से ही मित्र बनाने की भावना जाग्रत होने लगती है। बालक-बालिकाएँ अपनी आयु के मित्र और सखियाँ बनाते हैं। कक्षा के सहपाठियों को मित्र बनाते हैं। मित्र बनाने की प्रक्रिया जीवनपर्यंत चलती रहती है। मित्र अवश्य बनाने चाहिए परंतु मित्र का चयन सावधानी से करना चाहिए। मित्र बनाने से पूर्व उसके गुणों, अवगुणों, स्वभाव और रुचियों को जान लेना चाहिए। उसकी आर्थिक स्थिति समान स्तर की होनी चाहिए। सच्चा मित्र नाविक के समान होता है जो मँझदार में फँसी नाव को किनारे पर लगा देता है।

श्री राम सीता की खोज करने निकले तो उन्होंने सुग्रीव से मित्रता की। श्री राम ने सुग्रीव को बालि के भय से मुक्त कराया तो सुग्रीव ने हनुमान के द्वारा सीता की खोज की। महाकवि तुलसीदास ने इस प्रसंग में सच्चे मित्र को परिभाषित करते हुए ‘रामचरितमानस’ में लिखा है-

कुपथ निवारि सुपंथ चलावा। गुन प्रगटै अवगुनहि दुरावा॥ देत लेत मन संक न धरई। बल अनुमान सदा हित करई॥ विपत्तिकाल कर सतगुन नेहा। श्रुति कह संत मित्र गुन एहा॥

श्री कृष्ण और सुदामा सहपाठी थे। श्री कृष्ण राजा बन गए। सुदामा निर्धनता का कष्टमय जीवन व्यतीत करने लगा। जब सुदामा कृष्ण के पास गया तो श्री कृष्ण ने मित्रता का निर्वाह करते हुए सुदामा को गले से लगाया। उसे राजसिंहासन पर अपने साथ बिठाया। उसका मान-सम्मान किया। उसके भवन को महल-सा भव्य बनवाकर उसे निर्धनता के अभिशाप से मुक्त कर दिया। कर्ण ने मृत्युपर्यंत दुर्योधन का साथ देकर मित्रता का निर्वाह किया था। सच्चा मित्र स्वयं कष्ट सह लेता है परंतु अपने मित्र पर आँच नहीं आने देता। वह मित्र के लिए छायादार वृक्ष बनकर उसे धूप और गर्म हवाओं से बचाता है। मित्रता की कसौटी विपत्तिकाल में होती है-

विपत्ति कसौटी जे कसै सोई साँचे मीत।

सच्चा मित्र वह होता है जो विपत्ति आने पर दृढ़ चट्टान के समान मित्र का साथ देता है। वह मित्र के सभी प्रकार के कष्टों को बाँट लेता है। प्रसिद्ध साहित्यकार रामचंद्र शुक्ल के अनुसार-‘जीवन में मित्रों की भीड़ एकत्र करने से श्रेष्ठ होता है एक ही मित्र बनाना। वह सच्चा मित्र होना चाहिए।’

सच्चे मित्र पर आँख मूंदकर विश्वास करना चाहिए। संदेह मित्रता का नाश कर देता है। मित्रता की दीवार में संदेह की तनिक-सी चोट से दरार पड़ जाती है।

मित्रता भावनाओं में बहकर नहीं अपितु भली-भाँति सोच-विचारकर करनी चाहिए। प्रायः देखा जाता है कि लोग बिना-सोचे समझे मित्र बनाते चले जाते हैं। ऐसे लोगों को बाद में पछताना पड़ता है। परखकर ही मित्र बनाना चाहिए। सच्चा मित्र अमूल्य धरोहर होता है। सौभाग्यशालियों को ही सच्चे मित्र मिलते हैं। ऐसे मित्रों पर गर्व करना चाहिए।

सच्ची मित्रता पर निबंध (True Friendship Essay In Hindi)

सच्ची मित्रता पर निबंध (True Friendship Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम सच्ची मित्रता पर निबंध (Essay On True Friendship In Hindi) लिखेंगे। सच्ची मित्रता पर लिखा यह निबंध बच्चो और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

सच्ची मित्रता पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On True Friendship In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।

Table of Contents

प्रस्तावना 

जीवन में हमेशा आगे बढ़ने के लिए कई प्रकार की परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है और हर प्रकार की परिस्थितियों में एक व्यक्ति जोआपके साथ खड़ा रहता है, वही सच्चा मित्र कहलाता है।

जिसे आप अपने दिल की हर बात साझा कर सकते हैं और कई ऐसी परिस्थितियों में मित्र आपके उत्साह और जोश को बढ़ाकर कार्य को संपन्न करने में मदद करता है। मित्र हर प्रकार के कार्य में हाथ बटाने वाला व्यक्ति होता है।

जीवन में हर किसी व्यक्ति के कई सारे मित्र होते हैं। मित्रता एक प्रकार का ऐसा रिश्ता है, जिसमें दोनों व्यक्ति बिना किसी स्वार्थ के एक दूसरे की मदद करते हैं। हर व्यक्ति के एक या दो मित्र होने जरूरी है।

ताकि व्यक्ति कई प्रकार के तनाव जैसे मामलों में अपने दिल की बात मित्रों से साझा करके अपने मन को हल्का कर सकता है।

जीवन को बेहतर और सुखद बनाने के लिए अनेक प्रकार की वस्तुओं और व्यक्तियों की जरूरत पड़ती है। लेकिन इनमें सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति मित्र होता है। मित्र की प्राप्ति होने के पश्चात जीवन बेहद सुखदायी बन जाता है।

एक सच्चे मित्र के साथ हर प्रकार की बात साझा की जा सकती है। मित्र वह व्यक्ति होता है, जो बिना किसी स्वार्थ के जरूरत पड़ने पर हमेशा सहायता करने के लिए तत्पर हो। मित्रता उन्हीं लोगों के बीच लंबे समय तक रहती है, जो लोग बिना किसी स्वार्थ के एक दूसरे की सहायता करते हैं।

साथ ही किसी भी परिस्थिति में उचित सलाह देने वाला एक सच्चा मित्र होता हैं। यह मित्रता एक प्रकार की सच्ची मित्रता कहलाती है। इस दुनिया में हजारों प्रकार के मित्र आपको मिल जाएंगे, लेकिन सच्चे मित्र को ढूंढना काफी मुश्किल है।

सच्ची मित्रता का मतलब

सच्ची मित्रता एक प्रकार का रिश्ता है, जिसका मतलब दो लोगों के बीच मित्र की भावना होना है। मित्र का मतलब यह नहीं है, कि दोनों लोग साथ में रहे और साथ में काम करें। मित्र का मतलब यह है, कि वह हर परिस्थिति में आपके साथ खड़ा रहे और आप को उचित सलाह दें।

इसे दूसरे शब्दों में आप एक दूसरे का शुभचिंतक भी कह सकते हैं। मित्रता के रिश्ते में हमेशा एक दूसरे के हित की कामना की जाती है। साथ ही साथ एक दूसरे को हर प्रकार के कार्य में बेहतर सलाह देकर उसके कार्य को सफल होने की कामना करना होता है।

मित्रता जिसमें हम सिर्फ सुख के समय की कामना नहीं कर सकते हैं। क्योंकि कई बार दुख की घड़ी में भी हमारे मित्र हमारी ढाल बन सकते हैं और सच्चा मित्र वही होता है जो दुख की घड़ी में आपके साथ ढाल बनकर खड़ा रहे।

सच्ची मित्रता करने का कोई उचित समय नहीं होता है और ना ही उचित व्यक्ति होता है। सच्ची मित्रता किसी भी समय किसी भी व्यक्ति के साथ की जा सकती है।

अवस्था के अनुसार मित्रता में परिवर्तन

मित्रता में भी अवस्था के अनुसार नए-नए मित्र बनना और अपनी उम्र के मित्र बनना यह अवस्था के अनुसार निर्धारित होता है। उदाहरण के तौर पर बात करें तो कोई भी बालक अपने उम्र के बालकों के साथ मित्रता करना पसंद करेगा।

इसके अलावा दूसरे उदाहरण में युवक अपने उम्र के युवकों के साथ और बुजुर्ग व्यक्ति अपने उम्र के बुजुर्गों के साथ मित्रता करने में दिलचस्पी दिखाता है। इसके अलावा पुरुष पुरुषों के साथ और स्त्रियां स्त्रियों के साथ मित्रता करना पसंद करते हैं। हालांकि पुरुष और स्त्रि भी आपस में बेहतर मित्र साबित हो सकते हैं।

दूसरे शब्दों में मित्र को परिभाषित करते हुए बताया जाए तो उस व्यक्ति को मित्र कहा जा सकता है, जो हर प्रकार के रहस्य, नए कार्य, सुख व दुख की घड़ी में हमारे साथ रहे।

मित्रता का महत्व

मित्रता का मुख्य महत्व होता है की एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को खुद के समान और बेहतर तरीके से समझ सके और उसके साथ अपनी मुसीबतों को साझा कर सकें। चाहे सच्चे मित्रो का खून का संबंध ना हो या जातीय संबंध ना हो, लेकिन फिर भी दोनों एक दूसरे के साथ बेहतर तरीके से जुड़े रहते हैं।

और यही मित्रता का मुख्य अर्थ है। उदाहरण के तौर पर एक क्रिकेटर जिसको बल्ले और बॉल से बेहद प्यार और लगाव होता है। उसी प्रकार मित्रों में भी एक दूसरे से इसी प्रकार का लगाव होना जरूरी है।

हालांकि कई लोग ईश्वर से भी अपनी मित्रता रखते हैं और ईश्वर की मूर्ति या तस्वीर के सामने बैठकर अपने दिल की बातें भगवान से शेयर करते हैं और ऐसा करके भी वह अपने मन को हल्का करते हैं। उन लोगों की ईश्वर के प्रति आस्था ही ईश्वर की मित्रता कहलाती है।

समाज में रहने वाले मनुष्य अपने आसपास के लोगों से मित्रता बनाए रखते हैं। हर मनुष्य के जीवन में हजारों लोग संपर्क में रहते हैं और कई लोग बेहतरीन मित्र भी साबित हो जाते हैं।

लेकिन संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति से सच्ची मित्रता या प्रेम नहीं हो सकता है। प्रेम केवल उन्हीं व्यक्तियों से होता है जिनके विचारों में समानता हो और अच्छी मित्रता के लिए समान आयु वर्ग का होना भी जरूरी है। कई जगह पर समान उद्योग में कार्यरत लोगों ने भी बेहतरीन मित्रता देखि गई है।

मित्रता लोगों के जीवन के लिए एक अमूल्य रिश्ता माना जाता है। मित्र बनाना सरल कार्य नहीं होता है, हजारों में एक बेहतरीन मित्र को चुनने में काफी कठिनाइयों और मुश्किलें होती है। एक मनुष्य के अंदर कई प्रकार की विशेषताएं होना जरूरी हैं।

एक मित्र दूसरे मित्र में इतना घुल मिल जाता है कि दोनों समान रूप से जीवनयापन करना शुरू करते हैं। दोनों की विचारधारा समान होने के कारण उनकी मित्रता प्यार में बदल जाती है। मित्र जीवन का एक अनमोल रिश्ता माना जाता है, जिसमें एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति की हर घड़ी में सहायता करता है।

मित्र बनाना एक प्रकार की कला है

विज्ञान के हिसाब से मित्र बनाना एक प्रकार की अनोखी कला है। जब मित्र एक दूसरे के प्रति दयालु या सहानुभूति दिखाते हैं, तो मित्रता लंबे समय तक चलती है। मित्रता का उद्देश्य साधारण शब्दों में सेवा करना कहा जा सकता है।

मनुष्य जो अपने मित्रों की ज्यादा से ज्यादा सहायता करता है वह अच्छा मित्र साबित हो सकता है। एक झुठा मित्र हमेशा स्वार्थी ही होगा। कई बार आपने भी ऐसा देखा होगा कि लोग मित्रता के नाम पर अपने काम को करवा कर फिर मुंह फेर लेते हैं। लेकिन ऐसी मित्रता लंबे समय तक नहीं टिकती हैं।

सच्चे मित्र की पहचान करना बहुत ही जरूरी होता है और सच्चे मित्र की पहचान करके उसके साथ मित्रता का रिश्ता बनाना यह एक प्रकार की अनूठी कला है। जो मित्र अपने दूर के मित्र से सच्चे दिल से प्रेम करता है, वह मित्रता की पहली पहचान है।

इसके अलावा मित्रता में विश्वास का होना बहुत ही जरूरी है। जिस मित्रता के रिश्ते में विश्वास नहीं है, वह रिश्ता लंबे समय तक नहीं चल सकता है। मित्रता का यह रिश्ता विश्वास के आधार पर ही टिका हुआ होता है।

एक सच्चा मित्र कभी भी अपने दूसरे मित्र से ना तो झूठ बोलेगा और ना ही उसके साथ किसी प्रकार का छल कपट करेगा और यह सच्चे मित्र की निशानी है।

वर्तमान समय के मित्र और ऐतिहासिक मित्रों में अंतर

हमारे पूर्वजों के भी मित्र हुआ करते थे। हमारे इतिहास में ऐसे कई उदाहरण हैं जो मित्रता की एक मिसाल बने हुए हैं। पुराने समय में मनुष्य आज के समय की तुलना में बेहद ज्यादा एकता के साथ रहते थे।

उस समय का मनुष्य हर व्यक्ति पर विश्वास और भरोसा आसानी से कर लेते था और ऐसे में उनकी मित्रता हमेशा लंबी चलती थी। पुराने समय के लोग एक दूसरे को धोखा देने से पहले हजारों बार सोचते थे। लेकिन आज के समय ऐसा बिल्कुल नहीं है। आज के समय अच्छा दोस्त मिलना काफी मुश्किल है।

हमारे इतिहास में कई ऐसे ही दोस्ती के उदाहरण है, जैसे कृष्ण और सुदामा की दोस्ती, महाराणा प्रताप और उनके घोड़े चेतक के बीच की मित्रता, राम और सुग्रीव की दोस्ती, पृथ्वीराज चौहान और चंद्रवरदाई की दोस्ती।

इतिहास मैं मित्रता की मिसाल खड़ी करने वाले ये उदाहरण आज के समय सही मित्रता का महत्व और अर्थ सिखाते हैं। लेकिन फिर भी आज के समय में मित्रता की परिभाषा को देखा जाए तो यह पूरी बदल चुकी है।

पहले के समय की दोस्ती को हर हाल में निभाने की कोशिश की जाती थी और ज्यादातर लोग अपने मरते दम तक दोस्ती को निभाया करते थे। लेकिन आज के समय में ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। पुराने समय की तुलना में आज के समय की मित्रता बिल्कुल उल्टी हो चुकी है। आज के समय मुश्किल से 2 या 3 महीने बेहतर दोस्ती टिक पाती है।

मित्रता एक प्रकार का पवित्र रिश्ता होता है। इस रिश्ते को कभी भी पैसों में नहीं तोला जा सकता है। मित्रता एक ऐसा अनूठा पवित्र बंधन है जिसमें दोनों व्यक्ति आपस में एक दूसरे से बिना किसी स्वार्थ के सुख दुख की घड़ी में हमेशा एक साथ खड़े रहते हैं। साथ ही हर प्रकार के नए कार्यों और दुख की घड़ी से उभरने के लिए बेहतर सलाह देते हैं।

दोस्ती पर निबंध (Friendship Essay In Hindi)

दोस्ती एक ऐसा रिस्ता है जो हमें कहि भी किसी से भी हो सकता हैं। दोस्ती का रिस्ता एक ऐसा रिस्ता है जिसे किसी फायदे के लिए नही किया जाता है ये अपने आप हो जाती है। जब किसी से हम दोस्ती करते हैं तो उसकी जाती – धर्म कुछ भी नही देखते हैं।

हमारे जीवन मे दोस्ती का बहुत बड़ा महत्व होता है। दोस्त के साथ बिताया हुआ हर एक पल हमे अच्छे से याद रहता हैं। दोस्त से दूर होने के बाद भी उनकी कुछ बाते याद आती रहतीं हैं।

दोस्त हमारे हर मुश्किल से मुश्किल समय मे साथ देते हैं और अच्छे से अच्छे समय मे भी साथ रहते हैं। कुछ दोस्त हमारे इतने खुश रहने वाले और मजाकिया होते है कि उनकी बाते कभी याद आती है तो चेहरे पर मुस्कान आने लगती है और हम चाह कर भी हँसी नही रोक पाते हैं।

दोस्ती कैसे होती है?

दोस्ती हमे किसी तरह गाँव, मुहल्ला, स्कूल, कॉलेज और ऑफिस में हो सकती है। दोस्ती होने के लिए दो लोगो को एक दूसरे को समझना बहुत जरुरी होता है। जब दो लोगो के बिच ज्यादा से ज्यादा बातो पर एक मत होता है तो वो ज्यादातर दोस्त बन जाते है।

गाँव और मुहल्ला में दोस्ती

यह हमारे बचपन के दोस्त होते हैं जिनके साथ हम अपने मुहल्ला में खेलते हैं। हमारे गाँव के दोस्त हमे बचपन से ही जानते है, इसीलिए उनसे हमारी कोई भी चीज छुपी नही रहती है। वो हमारे बारे में सब कुछ अच्छे से जानते हैं।

स्कूल में दोस्ती 

यह दोस्त हमारे स्कूल में बनते हैं। ये हमारे स्कूल की पढ़ाई में मदद करते हैं। जब स्कूल में हमे कोई परेशानी होता हैं तो ये हमे मदद करत्ते है। स्कूल का दोस्त वो दोस्त है जिसके साथ हम अपने स्कूल के सभी खेल में भाग लेते है। स्कूल का कोई होम वर्क जब हम से नही होता हैं तो हम अपने स्कूल वाले दोस्त से मदद लेते हैं और कही बार हम भी उसकी मदद करते हैं।

कॉलेज में दोस्ती

यह दोस्त हमारे कॉलेज में बनते हैं। यह हमारे साथ रोज कॉलेज में पढाई करते हैं, ये हमे कॉलेज की पढाई में मदद करते हैं और कभी – कभी किसी कारण से हम कॉलेज नही जा पाते हैं तो कॉलेज का महत्वपूर्ण नोटिस ये हमे बताते हैं।

ये हमारे कॉलेज की परीक्षा में भी बहुत मदद करते हैं। कॉलेज का दोस्त होना हमारे लिए बहुत जरूरी होता है, क्योकि कोई ना कोई दिन ऐसा जरूर आता है कि अपने परिवार का कोई महत्वपूर्ण काम या अपने काम के बजह से हम कॉलेज नही जा पाते है।

उस दिन कॉलेज के दोस्त हमे कॉलेज के सभी महत्वपूर्ण कार्य की जानकारी देते हैं। हमारे कॉलेज में कुछ हम से अगली कक्षा में पढ़ने वाले भी दोस्त होते है, जो हमें हमारी कक्षा में परीक्षा की तैयारी कैसे करे इसके बारे में बताते हैं, जिससे हमें बहुत मदद मिलता हैं।

ऑफिस में दोस्ती 

ये दोस्त हमें ऑफिस में मिलते हैं जहा हम काम करते है। इनसे हमारी दोस्ती ऑफिस में काम करने के दौरान सुरु होती हैं और ये दोस्त हमारे ऑफिस की समस्याओ में हमेशा हमारी मदद करते हैं। ऑफिस में बहुत पहले से भी काम करने वाला हमारे दोस्त बनते हैं।

इसी लिए कहा जाता है कि हमे दोस्ती कहि भी हो सकती है और किसी भी जाति धर्म के लोगो से कही भी हो सकती है। सच्ची दोस्ती में कोई गरीबी अमीरी भी नही देखता है और इसी लिये ये रिस्ता बहुत ही पवित्र रिश्ता होता हैं।

पारिवारिक दोस्त (Family Friend)

यह दोस्त हमारे साथ – साथ हमारे परिवार के सभी सदस्य को भी जानते हैं और परिवार के सभी सदस्य इन्हें भी जानते हैं। ये हमारे रिस्तेदार जैसे हो जाते हैं और ये हमारे परिवार के लोगों से भी मिलने आते है और हम भी इनके परिवार के लोगो से मिलने जाते हैं।

पारिवारिक दोस्त एक दूसरे के परिवार का हमेशा ध्यान रखते है। जब किसी एक दोस्त के परिवार पर कोई मुसीबत आती है तो दूसरे दोस्त का परिवार उनकी मदद करने के लिए हमेशा आगे आता है।

पारिवारिक दोस्त सिर्फ दोस्त ही नहीं होते बल्कि वो एक परिवार के तरह रहते है। इसमें दोनों दोस्तों का परिवार एक दूसरे को परिवार का सदस्य मानते है।

व्यावसायिक दोस्त (Business Friend)

ये हमारे व्यवसाय में साथ रहते हैं। व्यावसायिक दोस्त हमें हमारे व्यवसाय में मदद करते है। दोनो दोस्त मिल कर इसमे अपना अपना योगदान देते है और इससे दोनों को व्यवसाय में सफलता आसानी से मिलती हैं। ऐसे दोस्त कभी कभी पारिवारिक दोस्त भी बन जाते है।

दोस्तो के साथ हमारा झगड़ा और प्यार दोनो होता है, लेकिन दोस्ती में अक्सर एक दूसरे को माफ कर दिया जाता है। इसीलिए कहा जाता है दोस्ती में सब जायज है। दोस्त को हमे हमेसा मदद करनी चाहिए और उसके कामो में हाथ बटाना चाहिए।

हमे हमेशा अपने सच्चे दोस्त के साथ ईमानदार रहना चाहिए, जिससे उसका विशवास बना रहेगा। अगर आपके जिंगदी में कोई समस्या आये तो दोस्तो के साथ जरूर शेयर करना चाहिए, क्युकी इससे आपका दिमाग हल्का होगा और उस समस्या का कोई ना कोई उपाय दोस्त जरूर ढूंढ देगा।

दोस्ती नया रीति रिवाज नही है यह इस धरती पर सदियो से चली आ रही है। जैसा की हम सभी कृष्ण और सुदामा की प्रसिद्ध दोस्ती की कहानी जानते है, जिसमे में कृष्ण ने सुदामा को दोस्त के नाते मदद कि थी। इसी लिए कहा जाता है कि दोस्त हमारे हर समय मे हमारी मदद करते हैं और हमारे साथ रहते है।

इन्हे भी पढ़े :-

  • मेरा प्रिय मित्र पर निबंध (My Best Friend Essay In Hindi)
  • मेरी प्रिय सहेली पर निबंध (Meri Priya Saheli Essay In Hindi)
  • 10 Lines On My Best Friend In Hindi Language

तो यह था सच्ची मित्रता पर निबंध, आशा करता हूं कि सच्ची मित्रता पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On True Friendship) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Related Posts

इंद्रधनुष पर निबंध (Rainbow Essay In Hindi Language)

इंद्रधनुष पर निबंध (Rainbow Essay In Hindi)

ओणम त्यौहार पर निबंध (Onam Festival Essay In Hindi)

ओणम त्यौहार पर निबंध (Onam Festival Essay In Hindi)

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध (Noise Pollution Essay In Hindi Language)

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध (Noise Pollution Essay In Hindi)

Net Explanations

Essay on My True Friend in Hindi

मेरा सच्चा मित्र निबंध | My True Friend in Hindi | Hindi Essay | My True Friend Essay in hindi.

हमारे कहि मित्र होते हैं पर वह सारे हमारे सच्चे मित्र होते हैं यह कहना सही ना होगाl मित्र और सच्चे मित्र में काफी फर्क होता है। हमारा सच्चा मित्र वही होता है जो हर सुख दुख में हमारा साथ दें। जब सारी दुनिया हमारे विपरीत खड़ी हो तो वह हमारे साथ खड़ा हो। हमें सही मार्गदर्शन देने में जिसका मुख्य योगदान है। सच्चा मित्र वही होता है जो हमारे सही को सही और गलत को गलत कहने की हिम्मत रखता है। जो व्यक्ति हमारे गलत करने पर हमें रोकता रोकता है वह हमारा सच्चा मित्र होता है। हमारे कई मित्र होते हैं जो हमारे गलतियों का हमें एहसास नहीं करवाते तो हमारे सच्चे मित्र नहीं होते हैं। हमारे गलत काम करने में भी हमारा साथ देते परंतु हमें गलत काम करने से नहीं रोक सकते। ऐसे मित्रों के साथ रहने से अच्छा है कि हमें कोई मित्र ना है। यदि हमें कोई अच्छा मित्र रखना है तो ऐसा मित्र रखे जो हमें सूर्य की तरह मार्गदर्शन करें। हमारे जीवन के अंधकार को दूर करने की कोशिश करें। हमारे बुराइयों को कम करने में हमारी मदद करें।

कई लोग हमारे सच्चे मित्र होने का दावा करते हैं लेकिन जब हम पर मुसीबत आती है तो वह सबसे पहले निकल भागते हैं। हम से किनारा कर लेते हैं। ऐसे लोग कभी किसी के सच्चे मित्र नहीं हो सकते। सच्चा मित्र वही होता है जो मुसीबत के समय हमारे साथ खड़े हो और हमारा हौसला बढ़ा है। हमें टूटने से बचा है। सच्चा मित्र वही होता है जो खुद के साथ-साथ अपने मित्र की भी भलाई सोचता है। सच्चा मित्र कभी गुरु होता है कभी भाई होता है तो कभी बहन होती है। सच्चा मित्र हमें किसी भी रूप में मिल सकता है। सच्चा मित्र यह एक दिए की तरह हमारे मार्ग को हमेशा रोशन करता है। हमें प्रगति तथा उन्नति की राह में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है।

कई लोग हमें जीवन के रास्ते से भटका ते हैं। हमें बुरी आदत है लगाते हैं। हमारा हर गलत कामों में साथ देते हैं तथा हमें गलत काम करने के लिए प्रेरित करता है। ऐसे लोग कभी किसी के सच्चे मित्र नहीं हो सकते। ऐसे लोग शत्रु की तरह होते हैं। जो हमें हमारे रस्ते से भटका कर हमारे जीवन को अंधकार में धकेल देते हैं। हमें ऐसे लोगों से सावधान रहना चाहिए। सच्चा दोस्त यह हमेशा सूरज की तरह होता है जो हमारे जिंदगी से अंधकार को मिटाकर हमारे जिंदगी में हमें सही मार्ग दिखाता है। सच्चा दोस्त यह रात में चमकने वाले जुगनू की तरह हमें रास्ता नहीं बुलाता।

भारत में प्राचीन काल से ही दोस्ती की अटूट परंपरा चली आ रही है। भारत देश में लोग अपने दोस्ती के लिए अपनी जान भी दे देते हैं। प्राचीन इतिहास में राजपूत ,मराठों की दोस्ती के कई किस्से मशहूर है l श्री कृष्ण और वासुदेव की दोस्ती से तो हम सभी भलीभांति परिचित हैं। दोस्त का दोस्ती के लिए अपनी जान निछावर करते हैं ऐसा भारत भूमि का इतिहास रहा है।

हर व्यक्ति के जीवन में एक अच्छा और एक सच्चा दोस्त रहना चाहिए। वह हमारे हर सुख दुख में हमारा सहारा बन के हमारा साथ देने का है। हमेशा हमारी हिम्मत पढ़ाता है।

For more update follow our hindi essay page

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

दोस्ती पर निबंध 100, 150, 200, 250, 300, 500 शब्दों मे (Friendship Essay in Hindi)

my true friend essay in hindi

Friendship Essay in Hindi – दोस्ती प्यार और स्वीकृति पर संबंधों का खजाना है। यह उन लोगों के बीच विकसित एक बंधन है जो घर जैसा महसूस करते हैं। जो दोस्ती का बंधन विकसित होता है, वह एक दिन, एक महीने या सालों तक चल सकता है। समान भावनाओं या भावनाओं के आधार पर मित्रता विकसित करना आवश्यक नहीं है; दोस्ती की कोई उम्र, लिंग या संस्कृति नहीं होती है।

आप साहसिक प्रकार के हो सकते हैं, लेकिन आपका सबसे अच्छा दोस्त एक बेवकूफ हो सकता है। किस्से शेयर करने से लेकर चॉकलेट चुराने तक दोस्ती दिल में खास रखती है। हालांकि, एक समर्पित और भरोसेमंद दोस्त के बिना जीवन कभी-कभी अकेला होता है। दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो समय के साथ और मजबूत होता जाता है। इस प्रकार, मित्रता पर निबंध प्रासंगिक विषय हैं

असाइनमेंट उद्देश्यों के लिए निबंध लिखने वाले छात्रों की सहायता के लिए, संदर्भ के लिए यहां एक लंबा और छोटा निबंध है। इसके अतिरिक्त, हमने बेहतर समझ के लिए लेख के माध्यम से आपका मार्गदर्शन करने के लिए दस-लाइन पॉइंटर्स को मानचित्र के रूप में नोट किया है और बेहतर समझ वाले निबंधों को तैयार करने में आपकी सहायता करते हैं।

मैत्री पर निबंध 10 पंक्तियाँ (Friendship Essay 10 Lines in Hindi)

  • 1) मित्रता उन व्यक्तियों के बीच पारस्परिक बंधन है जो समान मानसिकता या विचार साझा कर सकते हैं।
  • 2) एक अच्छा दोस्त वह होता है जिसके साथ आप अपने विचार साझा कर सकते हैं जो आप दूसरों के साथ साझा नहीं कर सकते।
  • 3) समय बीतने के साथ दोस्ती गहरी होती जाती है और एक मजबूत रिश्ते में बदल जाती है।
  • 4) सच्ची मित्रता में प्रत्येक व्यक्ति दूसरों में सकारात्मक परिवर्तन लाने का प्रयास करता है और हमेशा नेक मार्ग दिखाता है।
  • 5) त्याग की भावना सच्ची मित्रता की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक है।
  • 6) एक सच्चा मित्र अपने मित्रों की भलाई के लिए बलिदान के लिए हमेशा तैयार रहता है।
  • 7) मित्रता दोस्तों को उनके बुरे समय में देखभाल और सहायता प्रदान करने में भी मदद करती है।
  • 8) सच्ची दोस्ती में हमेशा सम्मान और जिम्मेदारी की भावना होती है।
  • 9) ‘ज़रूरतमंद दोस्त ही दोस्त होता है’ सच्ची दोस्ती का सार दर्शाता है।
  • 10) भगवान कृष्ण और सुदामा की मित्रता मित्रता के निस्वार्थ बंधन की एक मिसाल है।

मैत्री पर निबंध 20 लाइन्स (Friendship Essay 20 Lines in Hindi)

  • 1) दोस्ती दो या दो से अधिक लोगों के बीच आपसी स्नेह, देखभाल और चिंता का रिश्ता है।
  • 2) एक सामाजिक प्राणी के रूप में मनुष्य के लिए मित्रता आवश्यक है।
  • 3) एक अच्छी दोस्ती नैतिक मूल्यों को स्थापित करती है और साझा करने और देखभाल करने की भावनाओं का संचार करती है।
  • 4) दोस्ती यह सुनिश्चित करती है कि आपकी तरफ से कोई न कोई हमेशा जरूरत और निराशा में रहे।
  • 5) दोस्ती आपको अपने परिवार के अलावा, दूसरों के साथ बातचीत करने और मेलजोल करने का मौका देती है।
  • 6) मित्रता दुख में सुखी रहने का और सुखी अनुभव करते हुए प्रसन्न रहने का साधन है।
  • 7) दोस्ती एक अद्भुत रिश्ता है जो आपके दुखों को कम करता है और आपकी खुशियों को कई गुना बढ़ा देता है।
  • 8) मित्रता केवल मनुष्य तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह मानव-पशु और पशु-पशु के बीच भी स्थापित हो सकती है।
  • 9) दोस्ती किसी को अपना कंधा उधार देने के लिए रोने और दर्द के माध्यम से उसका हाथ पकड़ने के समान है।
  • 10) अगर आप किसी की कंपनी में सहज हैं और हमेशा उसके साथ रहना चाहते हैं – यह दोस्ती है।
  • 11) दोस्ती दो या दो से अधिक लोगों के बीच एक सौहार्दपूर्ण और विश्वास आधारित रिश्ता है।
  • 12) पारस्परिक लाभ के लिए दो व्यक्तियों के बीच जो मित्रता होती है, वह उपयोगिता की मित्रता है।
  • 13) जिस मित्रता में दो या दो से अधिक लोग एक-दूसरे की संगति का आनंद लेते हैं, वह सुख की मित्रता है।
  • 14) मित्रता पारस्परिक रूप से मित्रों को भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और वित्तीय सहायता प्रदान करती है।
  • 15) सदियों पुराना, मानव-कुत्ते का रिश्ता मानव-पशु मित्रता का एक बेहतरीन उदाहरण है।
  • 16) दोस्ती भी उम्र की बाध्यता नहीं है और यहां तक ​​कि किशोरों और बुजुर्गों के बीच भी मौजूद है।
  • 17) दोस्ती प्यार, देखभाल और चिंता के रूप में एक आशीर्वाद है जो जीवन भर आपके साथ रहती है।
  • 18) दोस्ती आपके चेहरे पर सारे दरवाजे बंद होने पर भी मुस्कुराने की वजह देती है।
  • 19) पूरी तरह से प्यार पर आधारित दोस्ती दोस्ती का सबसे अच्छा रूप है।
  • 20) सच्ची मित्रता और मित्र दुर्लभ हैं, और हमें उन्हें किसी भी कीमत पर संरक्षित करना चाहिए।

इनके बारे मे भी जाने

  • Essay in Hindi
  • New Year Essay
  • My Family Essay
  • My Teacher Essay
  • Child Labour Essay

छात्रों के लिए दोस्ती पर निबंध लघु निबंध (Essay On Friendship Short Essay For Students in Hindi)

मित्रता मनुष्य को ईश्वर प्रदत्त वह विशेष उपहार है जिसके साथ कोई भी कई प्रतिध्वनित भावनाओं को साझा कर सकता है। एक अच्छा दोस्त सही मार्गदर्शन देता है और व्यक्तिगत मकसद से रहित सबसे ईमानदार व्यक्ति होता है और अविश्वसनीय बलिदान करता है

एक अच्छा दोस्त अच्छे और खराब मौसम की परवाह किए बिना पहरा देता है। किसी से दोस्ती करना हमेशा आसान और सीधा होता है; हालाँकि, एक अच्छा दोस्त बनने में जीवन भर लग जाता है। एक अच्छा दोस्त या दोस्ती होना जीवन का कोई अस्थायी दौर नहीं है।

दोस्ती एक संवेदनशील और नाजुक बंधन है जिसे चोट की भावना को रोकने के लिए सावधानी से निपटने की जरूरत है। यह युगों तक चल सकता है और एक अटूट बंधन बना सकता है जब तक कि कोई गलत साबित न हो जाए। हालांकि, अलग-अलग लोग दोस्त नहीं बनते। एक मजबूत दोस्ती बंधन तब विकसित होता है जब दोस्त एक पारस्परिक मूल्य प्रणाली, विचार और स्वाद साझा करते हैं। भावनाओं के समान संतुलन वाली दोस्ती टूट जाएगी।

एक अच्छी दोस्ती के लिए संचार की आवश्यकता होती है। अच्छे दोस्त हर समस्या, कठिनाई को साझा करते हैं और मतभेदों को सुलझाते हैं। वे चरित्र को ढालने में मदद कर सकते हैं, और किसी से मित्रता करते समय सावधानी बरतने की जरूरत है। इसलिए दोस्ती भगवान की ओर से एक खास तोहफा है।

दोस्ती निबंध 100 शब्द (Friendship Essay 100 words in Hindi)

जरुरतमंद दोस्त ही वास्तव में दोस्त होता है, यही एक सच्चे दोस्त की परिभाषा है जो आपकी मुश्किलों, सफलता और असफलता के दौरान आपको कभी नहीं छोड़ेगा। हम अपने दोस्त चुन सकते हैं। असली दोस्त हमेशा एक दूसरे को शेयर और सपोर्ट करते हैं। जब हम खुश होते हैं तो वे खुशी महसूस करते हैं, और हमारे दुख के दौरान वे हमारे साथ दुख भी साझा करते हैं। सच्ची मित्रता सभी चीजों को साझा करने, गलतियाँ करने, मूर्खतापूर्ण बातों के लिए लड़ने, लेकिन एक दूसरे का समर्थन करने के लिए फिर से गले लगाने के बारे में है। सुखी जीवन के लिए दोस्ती एक जरूरी चीज है। जब भी आप चिंता में होते हैं, तो किसी मित्र के साथ चैट करने से सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। यही दोस्ती की ताकत है।

दोस्ती निबंध 150 शब्द (Friendship Essay 150 words in Hindi)

दोस्ती एक ईश्वरीय रिश्ता है। हमारे खून में समानता तो नहीं है, लेकिन फिर भी वो शख्स हमारी परवाह करता है। सभी मतभेदों के बावजूद, एक दोस्त आपको चुनता है, आपको समझता है और आपका समर्थन करता है। जब भी आप आत्म-संदेह में हों या आत्मविश्वास की कमी हो, तो किसी मित्र से बात करें, और आपकी चिंता निश्चित रूप से दूर हो जाएगी।

एक सच्चा दोस्त हमेशा आपकी खुशी चाहता है। एक अच्छे दोस्त के बिना जीवन केवल खाली होता है। दोस्ती को हमेशा के लिए बनाए रखने के लिए ईमानदारी महत्वपूर्ण कारक है। एक-दूसरे की भावनाओं को समझने के लिए आपको एक-दूसरे के साथ पूरी तरह से ईमानदार रहना होगा। दोस्ती के लंबे समय तक चलने के लिए धैर्य और स्वीकृति भी अन्य कारक हैं। मतभेदों को समझना और उन्हें स्वीकार करना दोस्ती में एक परिपक्वता कारक है। दोस्ती आपको मीठी यादों से भर देगी जिसे आप जीवन भर संजो कर रख सकते हैं। असीम प्यार और देखभाल ही दो दोस्तों के बीच के रिश्ते को मजबूत बनाती है।

दोस्ती निबंध 200 शब्द (Friendship Essay 200 words in Hindi)

सबसे पवित्र रिश्तों में से एक दोस्ती का रिश्ता है। मित्र के बिना व्यक्ति कठिन जीवन जीता है। हमारे अनुभव से निपटने के लिए हर किसी को एक साथी की जरूरत होती है। यह आप पर निर्भर है कि आप दोस्ती को कैसे परिभाषित करते हैं। यह आपके भोजन को साझा करना, उस व्यक्ति की देखभाल करना, उनके मोटे और पतले में उनका समर्थन करना हो सकता है। आप इसके बारे में जोर से नहीं हो सकते हैं, लेकिन अगर आप चुपचाप किसी व्यक्ति की परवाह करते हैं, तो यही दोस्ती है। दोस्ती छोटी-छोटी बातों पर एक साथ हंसने, आपके द्वारा साझा किए गए हर पल को संजोने, एक-दूसरे के लिए एक साथ खड़े होने के बारे में है, तब भी जब दुनिया उनकी ओर पीठ कर लेती है।

दोस्ती कभी-कभी प्यार के रिश्ते से ज्यादा टिकाऊ होती है। भले ही दोस्ती की परिभाषा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो, लेकिन इसके पीछे का मूल अर्थ सभी के लिए समान है। दोस्त के बिना जिंदगी अधूरी है। इसलिए जब आपको एक सच्चा दोस्त मिले, तो सुनिश्चित करें कि आप उसे पूरे दिल से संजोते हैं। एक सच्चा दोस्त वाला व्यक्ति, जिसके साथ सब कुछ साझा किया जा सकता है, वह दुनिया में सबसे भाग्यशाली है। एक दोस्त आपको कभी जज नहीं करेगा, और अगर आप गलत हैं तो वे आपको डांटना बंद नहीं करेंगे। लेकिन जो भी स्थिति हो, वे हमेशा आपका समर्थन करने के लिए मौजूद रहेंगे।

दोस्ती निबंध 250 शब्द (Friendship Essay 250 words in Hindi)

दोस्ती दो लोगों के बीच का सबसे गहरा रिश्ता है। अगर आप दोस्ती में हैं, तो आप भाग्यशाली हैं। आपका दोस्त आपके जैसा हो भी सकता है और नहीं भी। उसे पढ़ाई पसंद हो सकती है, जबकि आपको खेल पसंद हो सकते हैं। फिर भी, आप भोजन मित्र हैं। दोस्ती जीवन भर हमारे साथ रहती है। हम स्कूल में एक दोस्त बनाते हैं। जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं हम कॉलेज में दोस्त बनाते हैं।

फिर से हम ऑफिस में दोस्त बनाते हैं। दोस्ती एक सतत चलने वाली प्रक्रिया है। जीवन में दोस्ती कभी खत्म नहीं होती, चलती रहती है। आपके कई दोस्त हो सकते हैं लेकिन उनमें से कुछ ही सबसे करीबी होते हैं। आपके सबसे करीबी दोस्त दोस्ती का सही मतलब समझाते हैं। जब आप उदास और अकेले होते हैं तो दोस्ती की जरूरत होती है। इन स्थितियों में आपके दोस्त आपके पास आते हैं। वे आपको आराम देते हैं, आपका मार्गदर्शन करते हैं और आपको खुश करने की कोशिश करते हैं।

एक सच्चा दोस्त आपको कभी अकेला और भ्रमित नहीं छोड़ेगा। सच्ची मित्रता सभी प्रकार के विभाजनों से मुक्त होती है। यह अमीर और गरीब के बीच हो सकता है; युवा एवं वृद्ध; छोटे और बड़े, आदि। दो बिल्कुल विपरीत लोग वास्तव में अच्छे दोस्त हो सकते हैं। इंसान और जानवर भी अच्छे दोस्त हैं।

आपने मुहावरा तो सुना ही होगा – “कुत्ता आदमी का सबसे अच्छा दोस्त होता है।” कुत्ता आदमी की परवाह करता है और आदमी भी कुत्ते की देखभाल करता है। वे दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं और परवाह करते हैं, बिना रूप के बारे में सोचे। यही सच्ची दोस्ती है। सच्ची दोस्ती इस बात की परवाह नहीं करती कि आप कैसे दिखते हैं। यह सिर्फ इस बात की परवाह करता है कि आप कौन हैं। एक सच्चा दोस्त आपको वैसे ही प्यार करता है जैसे आप हैं।

  • My Best Friend Essay
  • My School Essay
  • My Hobby Essay
  • My Favourite Teacher Essay
  • Myself Essay

दोस्ती निबंध 300 शब्द (Friendship Essay 300 words in Hindi)

मित्रता जीवन के मूल्यवान दान के रूप में सबसे महत्वपूर्ण है। दोस्ती सबसे सम्मानित रिश्तों में से एक है। जिन लोगों के पुराने दोस्त होते हैं, वे अपने जीवन में सबसे ज्यादा सराहना करते हैं। सच्ची दोस्ती वफादारी और समर्थन पर निर्भर करती है। एक पुराना दोस्त वह व्यक्ति होता है जो चुनौतियों के नियंत्रण से बाहर होने पर आपके साथ रहेगा। एक दोस्त कोई अनोखा होता है जिस पर आप हर पल तारीफ करने के लिए निर्भर हो सकते हैं। दोस्ती एक वास्तविक संपत्ति की तरह होती है, और यह हमें प्रगति की ओर ले जा सकती है। सब कुछ हमारे निर्णय पर निर्भर करता है कि हम अपने दोस्तों को कैसे चुनते हैं। अपने जीवन में एक वास्तविक मित्र का चयन करना एक कार्य हो सकता है। यदि आप एक बुरा साथी चुनते हैं, तो वे आपको गुमराह कर सकते हैं, लेकिन सच्चे दोस्त हमेशा आपका सही मार्गदर्शन करेंगे।

मित्रता का स्वरूप हमारी संतुष्टि के लिए आवश्यक है। सच्ची मित्रता के लाभ दीर्घायु होते हैं। इसी तरह एक विश्वसनीय मित्र मंडली होने से भी हमारी निडरता में सुधार होता है। सच्ची मित्रता को स्थिति या विश्वास के बयान जैसी सीमित सीमाओं के भीतर काम नहीं किया जा सकता है। यह हमें एक झुकाव देता है कि किसी को हमारी जरूरत है, और हम अकेले नहीं हैं। यह सच है कि इंसान अकेला नहीं रह सकता।

आम तौर पर, हम उन लोगों के साथ एक साथी बनाते हैं जो हमारे समान उम्र के होते हैं। वही उम्र का जमावड़ा आपको कुछ भी साझा करने की अनुमति दे सकता है। दोस्ती एक ऐसा कनेक्शन है जो हमें जीवन के हर चरण में बना या बिगाड़ सकता है। हालाँकि, दोस्ती एक अनमोल फायदा है। वैसे ही दोस्ती की देखभाल करना इतना आसान नहीं है। यह आपके समय का अनुरोध करता है जैसे कि प्रयास। अंतिम लेकिन कम से कम, यह एक मायावी और वास्तविक मित्रता है; हालाँकि, एक बार जब आप इस रिश्ते में जीत जाते हैं, तो आप कुछ शानदार यादें बना लेंगे। उसके बदले में, एक साथी को आपके महत्वपूर्ण समय और विश्वास की आवश्यकता होगी।

दोस्ती निबंध 500 शब्द (Friendship Essay 500 words in Hindi)

दोस्ती सबसे महान बंधनों में से एक है जिसकी कोई भी कामना कर सकता है। भाग्यशाली वे होते हैं जिनके पास ऐसे दोस्त होते हैं जिन पर वे भरोसा कर सकते हैं। दोस्ती दो व्यक्तियों के बीच एक समर्पित रिश्ता है। वे दोनों एक दूसरे के लिए अत्यधिक देखभाल और प्यार महसूस करते हैं। आमतौर पर, एक दोस्ती दो लोगों द्वारा साझा की जाती है जिनके समान हित और भावनाएँ होती हैं।

आप जीवन के रास्ते में बहुत से मिलते हैं लेकिन कुछ ही हमेशा आपके साथ रहते हैं। वही आपके असली दोस्त होते हैं जो हर समय आपके साथ रहते हैं। दोस्ती सबसे खूबसूरत तोहफा है जिसे आप किसी को भी दे सकते हैं। यह वह है जो हमेशा के लिए एक व्यक्ति के साथ रहता है।

सच्ची दोस्ती

एक व्यक्ति अपने जीवन में कई व्यक्तियों से परिचित होता है। हालाँकि, सबसे करीबी हमारे दोस्त बन जाते हैं। स्कूल या कॉलेज में आपका एक बड़ा मित्र मंडली हो सकता है, लेकिन आप जानते हैं कि आप केवल एक या दो लोगों पर ही भरोसा कर सकते हैं जिनके साथ आप सच्ची मित्रता साझा करते हैं।

मूल रूप से दो प्रकार के मित्र होते हैं, एक अच्छा मित्र होता है और दूसरा सच्चा मित्र या सबसे अच्छा मित्र होता है। वे वही हैं जिनके साथ हमारा प्यार और स्नेह का विशेष बंधन है। दूसरे शब्दों में, एक सच्चा दोस्त होने से हमारा जीवन आसान और खुशियों से भरा होता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सच्ची दोस्ती किसी भी निर्णय से मुक्त रिश्ते के लिए है। एक सच्ची दोस्ती में, एक व्यक्ति न्याय किए जाने के डर के बिना पूरी तरह से खुद हो सकता है। यह आपको प्यार और स्वीकृत महसूस कराता है। इस प्रकार की स्वतंत्रता वह है जो प्रत्येक मनुष्य अपने जीवन में प्राप्त करने का प्रयास करता है।

संक्षेप में, सच्ची मित्रता ही हमें जीवन में मजबूत बने रहने का कारण देती है। एक प्यारा परिवार होना और सब कुछ ठीक है लेकिन पूरी तरह से खुश रहने के लिए आपको सच्ची दोस्ती भी चाहिए। कुछ लोगों के तो परिवार भी नहीं होते लेकिन उनके ऐसे दोस्त होते हैं जो उनके परिवार की तरह ही होते हैं। इस प्रकार, हम देखते हैं कि सच्चे मित्र सभी के लिए बहुत मायने रखते हैं।

दोस्ती का महत्व

जीवन में दोस्ती महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमें जीवन के बारे में बहुत कुछ सिखाती है। दोस्ती से हम बहुत कुछ सीखते हैं जो हमें कहीं और नहीं मिलेगा। आप अपने परिवार के अलावा किसी और से प्यार करना सीखते हैं। आप जानते हैं कि दोस्तों के सामने खुद कैसे रहना है।

दोस्ती हमें बुरे वक्त में कभी नहीं छोड़ती। आप लोगों को समझना और दूसरों पर भरोसा करना सीखते हैं। आपके सच्चे दोस्त हमेशा आपको प्रेरित करेंगे और आपका उत्साहवर्धन करेंगे। वे आपको सही रास्ते पर ले जाएंगे और आपको किसी भी बुराई से बचाएंगे।

इसी तरह दोस्ती भी आपको वफादारी के बारे में बहुत कुछ सिखाती है। यह हमें वफादार बनने और बदले में वफादारी पाने में मदद करता है। दुनिया में आपके प्रति वफादार दोस्त होने से बड़ी कोई भावना नहीं है।

इसके अलावा, दोस्ती हमें मजबूत बनाती है। यह हमारा परीक्षण करता है और हमें बढ़ने में मदद करता है। उदाहरण के लिए, हम देखते हैं कि हम अपने दोस्तों के साथ कैसे लड़ते हैं, फिर भी अपने मतभेदों को दूर करके एक साथ वापस आ जाते हैं। यही हमें मजबूत बनाता है और हमें धैर्य सिखाता है।

इसलिए इसमें कोई शक नहीं है कि सबसे अच्छे दोस्त हमारी मुश्किलों और जीवन के बुरे समय में हमारी मदद करते हैं। वे हमेशा हमें हमारे खतरों से बचाने की कोशिश करते हैं और साथ ही समय पर सलाह भी देते हैं। सच्चे दोस्त हमारे जीवन की सबसे अच्छी संपत्ति की तरह होते हैं क्योंकि वे हमारे दुखों को साझा करते हैं, हमारे दर्द को शांत करते हैं और हमें खुश करते हैं।

दोस्ती पर अनुच्छेद पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

फ्रेंडशिप डे कब मनाया जाता है.

हर साल 30 जुलाई को हम अपने जीवन में सच्चे दोस्तों की सराहना करने के लिए दोस्ती दिवस मनाते हैं। हम उनकी सराहना करते हैं, खासकर उस दिन, उन्हें यह बताने के लिए कि वे हमारे जीवन में कितना मायने रखते हैं।

आप किसे अच्छा दोस्त कह सकते हैं?

एक व्यक्ति जो आपके मोटे और पतले में आपके साथ रहता है, आपके साथ धैर्य रखता है, आपको समझता है और आपका समर्थन करता है, यही एक अच्छे दोस्त की परिभाषा हो सकती है।

सच्ची मित्रता का अर्थ समझाइए।

हर इंसान के लिए सच्ची दोस्ती के मायने अलग-अलग होते हैं। लेकिन आम तौर पर, प्यार, सम्मान, सच्चाई, स्नेह का संयोजन ऐसे कारक हैं जो वास्तविक सद्भाव या सच्चे मित्र में होने चाहिए।

आप अपने सबसे अच्छे दोस्त के लिए एक विशेष भावना क्यों रखते हैं?

एक व्यक्ति जो पहले से ही आपके बुरे समय को अच्छे के साथ देख चुका है, हर पल आपका समर्थन करता है, जब आप खो जाते हैं तो आपका मार्गदर्शन करते हैं, और जब हर कोई अपनी पीठ फेरता है, तो वह आपके साथ खड़ा होता है, जिसे आप सबसे अच्छा दोस्त कहते हैं, जो उन्हें आपके जीवन में बहुत खास बनाता है।

ESSAY KI DUNIYA

HINDI ESSAYS & TOPICS

Essay on True Friendship in Hindi – सच्ची दोस्ती पर निबंध

June 5, 2018 by essaykiduniya

Here you will get Paragraph and Short Essay on True Friendship in Hindi Language for students of all Classes in 200 and 400 words. यहां आपको सभी कक्षाओं के छात्रों के लिए हिंदी भाषा में सच्ची दोस्ती पर निबंध मिलेगा।

Essay on True Friendship in Hindi

Short Essay on True Friendship in Hindi Language – सच्ची दोस्ती पर निबंध ( 200 words )

दुनिया में हर व्यक्ति बहुत सारे रिश्तों से जुड़ा होता है जैसे कि माँ बाप, भाई बहन आदि जो कि उसके साथ जन्म से जूड़े होते है लेकिन मित्रता का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है जो वह समय के साथ साथ खुद चुनता है। हर मनुष्य को जीवन में दोस्त की आवश्यकता हेती है जो हर कदम पर उसका साथ निभा सके। सच्ची मित्रता किसी भी व्यक्ति का जीवन सुधार सकती है। एक सच्चा दोस्त सबसे अच्छा मार्गदर्शक होता है। एक सच्चा मित्र हमेशा आपकी मदद करेगा। आपको आगे बढ़ने के लिए नए नए सुझाव देगा, आपकी हरसंभव मदद करेगा, आप में उत्साह की एक नई उमंग जगाएगा।

आज के युग में सभी दोस्त सच्चे नहीं होते अपितु वह दोस्ती के नाम पर छल कपट करते हैं। एक सच्चा मित्र वही होता है जो आपके दुख को अपना दुख समझे। आपको किसी भी परिस्थिति में अकेला न रहने दें। सच्ची मित्रता दो व्यक्ति को ऐसे जोड़ देते है कि वो कभी अलग होने का सोच भी नहीं सकते। मित्रता व्यक्ति को दिल से जोड़ देती है। सच्चा मित्र वह है जो आपकी कामयाबी पर आपको शाबाशी और गलती होने पर आपको डाँटे। जिंदगी में एक सच्चा मित्र तो होना ही चाहिए वरना जिंदगी नीरस हो जाती है।

Sacha Mitra Par Nibandh in Hindi – Essay on True Friendship in Hindi ( 400 words )

दुनिया का वह रिश्ता जो एक व्यक्ति खुद से चुनता है दोस्ती का होता है बाकि सभी रिश्ते तो उसके साथ जन्म से ही जुड़े होते है। दोस्ती का रिश्ता बहुत ही प्यारा होता है। सच्ची मित्रता हर किसी के नसीब में नहीं होती। लेकिन मित्र की जरूरत हर व्यक्ति को होती है क्योंकि एक सच्चा मित्र हमारे हर सुख दुख का साथी होता है। हमें जिंदगी के अलग अलग पड़ाव पर दोस्त की जरूरत होती है। सच्चे मित्र वह होते है जो आपकी हर संभव सहायता करते है। सच्ची मित्रता की जरूरत तो भगवान को भी थी। तभी तो श्री कृष्ण के भी सच्चे मित्र सुधामा थे और उनसे लंबे समय के बाद मिलने पर कृष्ण जी रो पड़े थे।

अगर आपका कोई सच्चा मित्र है तो वह हमेशा आपका सहयोग देगा और सही दिशा में प्रोत्साहित करता है। सच्ची मित्रता एक व्यक्ति को दुसरे व्यक्ति से जोड़ देती है। कहते है भगवान जिन्हें खुन के रिश्ते में बाँधना भूल जाता है उन्हें सच्चे मित्र बना देता है। सच्ची मित्रता वह है जो एक व्यक्ति को दुसरे के दुख को दुख समझना सिखा देती है। दोस्त वह है जो आपकी खुशी में खुश हो और दुख में दुखी। सच्चा दोस्त आपको मुसीबतों से बाहर आने में सहायता करता है। वह आपको किसी भी परिस्थिति में अकेला नहीं छोड़ता।

सच्ची मित्रता दो दिलों को जोड़ देती है। दो व्यक्ति मौज मस्ती कपने में बराबर की जिम्मेदारी रखते है। अगर आप स्कूल नहीं गए तो आपके दोस्त आपकी सहायता करते है। सच्चे मित्र हमें एक नई उम्मीद देते है। वह किसी भी तरह से हमसे जलन महसूस नहीं करते बल्कि वह हमारी तरक्की देख कर प्रसन्न होते है। सच्चे दोस्त हमें हमारी कामयाबी पर शाबाशी और गलती पर डाँटते है। वह हमारे परिवार का ही हिस्सा बन जाते है।

आज के युग में लोगों के दोस्त तो बहुत होते है पर इतनों की भीड़ में उनका कोई सच्चा मित्र नहीं होता। सच्चे दोस्त के बिना इंसान अकेला महसूस करता है। कई बार वह अपने दिल की बातें किसी से नहीं कह पाता। छोटे हो या बड़े सच्चे दोस्त की आवश्यकता हर किसी को होती है। सच्ची मित्रता के बिना जीवन नीरस होता है। दोस्तों के बिना जीवन में कोई मौज मस्ती नहीं होती। हम सबको अपने जीवन में परख कर ही सच्चा मित्र बनाना चाहिए। हमारी कामयाबी के पीछे कहीं न कहीं हमारे दोस्तों का भी हाथ होता है।

हम आशा करते हैं कि आप इस निबंध ( Essay on True Friend in Hindi Language – Essay on True Friendship in Hindi – सच्ची दोस्ती पर निबंध ) को पसंद करेंगे।

More Articles:

Essay on Trees Our Best Friends in Hindi Language – पेड़ हमारे मित्र पर निबंध

Essay on Friend in Hindi – मित्र पर निबंध

Short Essay on My Best Friend in Hindi – मेरे प्रिय मित्र पर अनुच्छेद

Essay on Books ; Our True Friend in Hindi : पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र पर निबन्ध

HindiKiDuniyacom

अच्छा दोस्त पर निबंध (A Good Friend Essay in Hindi)

आजकल के दौर में यदि आपके पास एक ऐसा मित्र है, जिसे आपने सदैव अपनी आवश्यकता के दौरान अपने समीप पाया हो। तो यकीन मानिये आप बहुत ही भाग्यशाली हैं और ऐसे ही मित्र सच्चे मित्र कहलाते हैं।

अच्छा दोस्त पर छोटे-बडे निबंध (Short and Long Essay on A Good Friend in Hindi, Achha Dost par Nibandh Hindi mein)

अच्छा दोस्त पर निबंध – 1 (300 शब्द) – achha dost par nibandh.

एक अच्छा दोस्त 100 पुस्तकों के बराबर होता है; ऐसा स्वयं श्री ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी का मानना था। क्योंकि हम पुस्तकों को पढ़ सकते हैं, उनसे सीख सकते हैं परंतु उन बातों को प्रयोग में ला रहे हैं कि नहीं यह कोई और नहीं अपितु हमारे दोस्त ही समझ पाते हैं। हम पर हमारे संगत का असर इस कदर पड़ता है कि, कोई बच्चा या तो बन ही जाता है या बिगड़ ही जाता है।

अच्छा दोस्त – हमारा सच्चा मार्गदर्शक

अच्छे दोस्तों का होना जीवन में बहुत आवश्यक होता है। बच्चे जितना अपने अध्यापक या माता-पिता से नहीं सीखते, उससे कई गुना वे अपने दोस्तों से सीखते हैं। और ऐसे स्थिति में दोस्तों के महत्व को आप समझ ही सकते हैं।

कई बार जो एक अभिभावक नहीं सिखा पाते, बच्चे अपने दोस्तों से सीख जाते हैं। एक अच्छा दोस्त खुद तो अच्छे पथ पर चलता ही है और साथ ही अपने दोस्तों को भी अच्छी आदतें सिखाता है। और अपने दोस्तों को भी गलत मार्ग पर जाने से रोकता है। शायद इसी वजह से जीवन में अच्छे दोस्तों का होना बेहद आवश्यक होता है।

एक सच्चे मित्र के कुछ गुण होते हैं जैसे कि; वे कभी भी किसी से अपने मित्रों कि बुराई नहीं करते, वे आपके पीठ पीछे आपकी बातें नहीं करते, किसी भी तरह कि मुसीबत में आपको अकेला नहीं छोड़ते, बेमतलब की बातों पर बहस नहीं करते, आपकी हालातों का कभी फायदा नहीं उठाते, आदि।

हर व्यक्ति को जीवन के किसी न किसी पड़ाव में एक अच्छे साथी कि आवश्यकता होती है। जो कि उचित समय पर हमारा उचित मार्गदर्शन करा के हमारे जीवन को भी रोशन करते हैं।

आजकल के दौर में सच्चे दोस्तों का मिलना बेहद मुश्किल है। इसी वजह से यदि आपके पास कोई सच्चा मित्र है तो अपनी दोस्ती को संभाल कर रखें और सदैव उसकी कद्र करें। अच्छा दोस्त मिलना किसी वरदान से कम नहीं होता।

इसे यूट्यूब पर देखें : Essay on A Good Friend in Hindi

निबंध – 2 (400 शब्द) – Achha Dost par Nibandh

एक व्यक्ति के जीवन में कई महत्वपूर्ण रिश्ते होते हैं और दोस्ती उन सब में सबसे अहम भूमिका निभाती है। कोई भी इंसान अपनी सारी समस्याओं को केवल अपने दोस्तों से ही साझा कर पाता है। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि दोस्त वह इंसान होता है जो हम सब के जीवन में बहुत अहम भूमिका निभाता है। और कहीं न कहीं हम सब के जीवन को प्रभावित करता है।

अच्छे दोस्त कि परिभाषा

एक अच्छा दोस्त वह नहीं जो सदैव आपके हां में हां मिलाये, अपितु वे आपकी गलती पर आपको टोकता भी रहें। वे आपको प्रेरित भी करते हैं, और आपको आगे बढ़ाने के लिए अपना पूरा प्रयास भी करते हैं। एक सच्चा मित्र खुद भी प्रगति के पथ पर चलता है और अपने सहयोगियों की भी भरपूर मदद करता है।

एक अच्छा दोस्त सदैव अपने साथियों का भला चाहता है और सब को अपने साथ लेकर चलता है। वे कभी किसी से अपने दोस्तों कि बुराई नहीं करता, न तो उन्हें नीचा दिखाता है। एक अच्छा दोस्त पाना सच में किसी वरदान से कम नहीं।

जीवन में अच्छे दोस्त का महत्व

सभी माता–पिता अपने बच्चों को अच्छा आचरण सिखाते हैं, परंतु उनको अमल में लाना बच्चों पर निर्भर करता है। आपका आचरण ठीक वैसा ही होता है जैसे कि आपके दोस्त होते हैं, अर्थात हमारे जीवन में किसी भी प्रकार के बदलाव के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हमारे दोस्त ही होते हैं।

आपकी संगत या तो आपका जीवन बना ही देती है, या तो उसे बिगाड़ ही देती है। कोई भी व्यक्ति अपने हम उम्र दोस्तों के साथ अपनी बातें आसानी से साझा कर पाता है, और एक दूसरे के गुण एवं दोषों में पूरी तरह रच-बस जाता है। इसलिए अच्छे दोस्तों का होना जीवन में बहुत आवश्यक होता है।

अच्छे दोस्त के फायदे

आपने दोस्तों के ऊपर ढेरों कहावतें तो सुनी ही होंगी, और आपने स्वयं भी आपने दोस्तों का आपके जीवन में योगदान भी देखा ही होगा। एक अच्छे दोस्त का हमारी सफलता में बहुत बड़ा योगदान होता है। वे सदैव अपने दोस्तों के अवगुणों को उजागर करते हैं और उन्हें खत्म करते हैं साथ ही साथ उनके गुणों को निखारने में उनकी मदद करते हैं। और यह जरूरी नहीं कि आपका कोई हम उम्र हो, वह आपके अध्यापक, अभिभावक, कोई भी हो सकते हैं।

हम यह कह सकते हैं कि जीवन का सफर दोस्तों के बगैर अधूरा है और हमें स्वयं भी इन गुणों को जरूर अपनाना चाहिये। और हमें यदि कोई ऐसा शख्स मिलता है जो हमारे लिए सोचे और हर परिस्थिति में हमारा साथ दे, तो यकीन मानिये कि आप बहुत किस्मत वाले हैं।

निबंध – 3 (500 शब्द) – Achha Dost par Nibandh

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसे चंद शब्दों में परिभाषित नहीं किया जा सकता। यह कभी-कभी एक भाई से बढ़ कर प्रेम देता है, तो कभी मां का आंचल बन हमें मुसीबतों से निकालता है। ऐसा कोई कार्य नहीं जो एक मित्र न कर सके और यदि आपके जीवन में ऐसा कोई हो तो आप वाकई में भाग्यशाली हैं, क्यों कि आज कल के दौर में मित्र तो बहुत मिल जाएंगे परंतु अच्छे दोस्तों का मिलना आसान बात नहीं।

अच्छे दोस्त के गुण

  • यह एक निश्छल रिश्ता होता है, जिसमें लोग एक दूसरे कि मदद खुशी से करते हैं और सब के आगे बढ़ने कि कामना करते हैं। वे जीवन के किसी भी क्षेत्र में आपको अकेला नहीं छोड़ते एवं सदैव आपके साथ रहते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त सदैव आपको सही राह पर चलने को प्रेरित करता है, चाहे वह राह कितना भी कठिन ही क्यों न हो।
  • वे आपकी सामाजिक एवं भावनात्मक दोनों रूप से मदद करते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त कभी भी आपके अनुपस्थिति में, आपके लिए अनुचित शब्दों का प्रयोग नहीं करता।
  • अच्छे दोस्त कभी भी मुसीबत आने पर आपको कभी अकेला नहीं छोड़ते।
  • एक अच्छा दोस्त आपसे अपेक्षा तो कर सकता है परंतु कभी आपकी उपेक्षा नहीं करता।
  • हम अपने मित्रों से अपनी सभी बातें आसानी से साझा कर पाते हैं और आशा करते हैं कि वे हमें इस दुनिया में सबसे अधिक समझते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त किसी भी आयु, लिंग और जाती का हो सकता है। कई बार हमारे अभिभावक हमारे सबसे अच्छे मित्र बन जाते हैं, जो हमारा सही मार्गदर्शन तो करते ही हैं साथ ही साथ हमें सबसे अधिक समझते भी हैं।
  • जीवन में अच्छे दोस्तों का होना किसी वरदान से कम नहीं होता। उन्हें सदैव सजो के रखें और उनका आदर करें।

अच्छा दोस्त – वफादारी का दूसरा नाम

दोस्तों को वफादारी का दूसरा नाम कहना गलत नहीं होगा। क्योंकि वे कभी आपको धोका नहीं देते और समय-समय पर कुछ ऐसे मिसाल कायम कर जाते हैं कि, हमारे दिल के और भी करीब हो जाते हैं।

कई बार हम देखते हैं कि उम्र व समय के साथ हमारे कई नए दोस्त बनते हैं और खत्म हो जाते हैं। पर जो हमारे साथ रह जाते हैं वे ही हमारे परम मित्र बन जाते हैं। और ज्यादातर देखा गया है कि ऐसी दोस्ती बहुत आगे तक जाती है। ऐसे लोग जो जीवन के हर पड़ाव पर हमारे साथ होते हैं वे हमारे और भी करीब हो जाते हैं।

हम किसी के साथ अपना सुख-दुख तभी साझा करते हैं जब वह भरोसेमंद होता है और एक वफादार इंसान सदैव हमारे दिल में अलग स्थान रखता है जो एक सच्चा दोस्त कहलाता है।

दोस्ती के बारे में जितना कहा जाए कम ही होगा। वह एक ऐसा व्यक्ति होता है जो भले ही दूसरी मां से जन्मा हो पर आप दोनों कि सोच एक समान होती है। शायद यही वजह है कि हमारे बड़े बुजुर्ग कह गये हैं कि ‘जैसी संगत वैसी रंगत’। अर्थात हम पर अपने दोस्तों का असर बहुत ही जल्दी पड़ता है। इसलिए जीवन में एक अच्छा मित्र अवश्य कमायें। दोस्ती कमानी पड़ती है, ठीक उन्हीं आदतों को अपना कर जिसकी कामना आप अपने मित्र से करते हैं।

निबंध – 4  (600 शब्द)

दोस्ती शब्द अपने आप में इतना समृद्ध है कि इसका कोई एक अर्थ निकालना इसे कम आंकना कहलाएगा। शायद दुनिया में माता-पिता के बाद दोस्त ही होते हैं जो हमारे सबसे करीब होते हैं। और हमें सबसे अच्छे से समझते हैं, तथा ऐसे में किसी बेहतरीन व्यक्ति का साथ मिल जाए तो जीवन संवर जाता है। दुनिया का हर दूसरा व्यक्ति देखने, सुनने और समझने में एक दूसरे से भिन्न होता है। पर जहां दो लोगों कि सोच थोड़ी मेल खाए वहीं दोस्ती पनपती है।

अच्छे दोस्तों का हमारे जीवन पर असर

ज्यादातर लोग अपना पहला दोस्त अपने स्कूल में बनाते हैं और यकीन मानिये, यह ये भी दर्शाता है कि आप दुनियादारी सीख रहे हैं। जब बच्चे अपने बल-बूते पर दोस्त बनाते हैं तो उनमें एक अलग प्रकार का आत्मविश्वास जन्म लेता है। जो कि आगे चल कर उनके जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

चूंकि बच्चे बहुत जल्दी सीखते हैं, इस लिए ऐसा पाया गया है कि जिन बच्चों ने स्कूल आकर सबसे पहले दोस्त बनाये उनमें सीखने कि क्षमता भी अधिक पाई गई। वे अपने दोस्तों का नकल करने लगते और नई-नई आदतें व बातें एक दूसरे से सीखते हैं।

मान लीजिए की एक बच्चे का परिवेश ऐसा है कि वह आए दिन अपने घर के आस-पास कहीं न कहीं गालियां सुनता रहता हो। तो वहीं एक ऐसा बच्चा भी हो जिसके घर अनुचित शब्दों के प्रयोग पर डाटा जाए तो यकीन मानिये वह अपने दोस्त को भी समझाएगा कि वह गलत है। ठीक इसी प्रकार चाहे वह जीवन का कोई भी पड़ाव क्यों न हो, दोस्तों से हम सीखते हैं।

दोस्त बनाना भी एक कला होता है जो शायद सब को नहीं आता। जिसमें खुद को भी झोंकना पड़ता है, तब जा के भरोसे कि चाशनी तैयार होती है और एक बार यह चाशनी तैयार हो जाए आप इसका आनंद सारी उम्र उठा सकते हैं।

अच्छी मित्रता के कुछ खास उदाहरण

यह जरूरी नहीं कि आप अपने दोस्तों से रोज बात करें परंतु आवश्यकता पड़ने पर आप सदैव उन्हें अपने समीप पाएंगे। हमारे इतिहास में कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो वाकई अच्छी दोस्ती के मिसाल हैं।

कृष्ण और सुदामा : शायद ही कोई ऐसा भारतीय होगा जो इतिहास के इस किस्से को नहीं जानता होगा। इनकी दोस्ती बाल्यावस्था में हुई थी जब दोनों बालक थे और अपनी-अपनी शिक्षा प्राप्त की। परंतु बाद में कृष्ण राजा बन गये और सुदामा एक गरीब ब्राह्मण। परंतु जब सुदामा श्री कृष्ण से मिलने गये, तो श्री कृष्ण ने उनके सारे कष्ट हर कर अपनी मित्रता को अमर कर दिया।

राम एवं सुग्रीव , कृष्ण एवं अर्जुन, दुर्योधन एवं कर्ण , कुछ ऐसे ऐतिहासिक उदाहरण हैं जो मित्रता के रिश्ते को और भी खास बना देते हैं और जीवन में अच्छे दोस्तों के महत्व को और बढ़ा देते हैं।

जीवन में अच्छे दोस्तों का होना बेहद आवश्यक होता है, उनके होने मात्र से मन में हिम्मत आ जाती है, क्योंकि कई बार हमारे फैसले ऐसे होते हैं जिससे घर वाले हमारे खिलाफ हो जाते हैं, तब वे हमारे दोस्त ही होते हैं जो हमारी भावना को समझते हैं और सब को हमारे नजरिये से समझाने का प्रयास करते हैं। या फिर हमारे गलत होने पर हमें भी समझाते हैं।

एक अच्छा मित्र इतनी आसानी से नहीं मिलता थोड़ा त्याग खुद भी करना पड़ता है और अगर आपके पास ऐसा मित्र है तो उसकी कद्र अवश्य करें। वे स्वयं भगवान का प्रसाद होते हैं, जो जीवन के कठिन परिस्थितियों में इस कदर मदद कर जाते हैं कि आप आजीवन उन्हें भूल नहीं पाते। अगर भगवान ने आपको कुछ अधिक दिया है तो सदैव दूसरों कि मदद करें और एक अच्छे मित्र का उदाहरण आप भी बनें।

Essay on a Good Friend

संबंधित पोस्ट

मेरी रुचि

मेरी रुचि पर निबंध (My Hobby Essay in Hindi)

धन

धन पर निबंध (Money Essay in Hindi)

समाचार पत्र

समाचार पत्र पर निबंध (Newspaper Essay in Hindi)

मेरा स्कूल

मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay in Hindi)

शिक्षा का महत्व

शिक्षा का महत्व पर निबंध (Importance of Education Essay in Hindi)

बाघ

बाघ पर निबंध (Tiger Essay in Hindi)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

my true friend essay in hindi

25,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today

Here’s your new year gift, one app for all your, study abroad needs, start your journey, track your progress, grow with the community and so much more.

my true friend essay in hindi

Verification Code

An OTP has been sent to your registered mobile no. Please verify

my true friend essay in hindi

Thanks for your comment !

Our team will review it before it's shown to our readers.

my true friend essay in hindi

  • Essays in Hindi /

Best Friend Essay in Hindi : दोस्ती जैसे महान रिश्ते पर कैसे लिखे निबंध, जानिए यहाँ विस्तार पूर्वक फ्रेंडशिप डे और फ्रेंड पर निबंध के बारे में

' src=

  • Updated on  
  • अगस्त 26, 2023

Best Friend Essay in Hindi

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसमें कोई मतभेद नहीं होता है, Best Friend Essay in Hindi के माध्यम से आपको दोस्ती पर कुछ इंट्रस्टिंग निबंध पढ़ने को मिलेंगे, जिन्हें आप अपने दोस्तों को समर्पित कर सकते हैं। फ्रेंडशिप डे से जुड़ी जानकारी पाने और दोस्ती और Mera Priya Mitra पर लिखे निबंध को पढ़ने के लिए ब्लॉग को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Mera Priya Mitra 

Best Friend Essay in Hindi के माध्यम से आप निबंध लिखने की मंशा और निबंध के तरीके को जानने का प्रयास कर पाएंगे। निबंध का पहला विषय “मेरा प्रिय मित्र” है, जिसके बारे में निबंध निम्नवत है-

Mera Priya Mitra पर 100 शब्दों का निबंध

मेरा प्रिय मित्र!

जीवन में मिलने वाले दुखों में सबसे पहले खड़ा होने वाला कोई है तो वो है ‘मेरा प्रिय मित्र’, यही दोस्ती तो मुझे जीवन जीना सिखाती है। कभी-कभी गुस्सा करता है तो कभी बड़ा मजाकिया है, कैसा भी है मेरा दोस्त दिल का बड़ा साफ़ इंसान है। मैंने उसके चेहरे पर कभी हताशा या कोई निराशा नहीं देखी क्योंकि मेरा दोस्त आशाओं का किरणपुंज है।

मुझे गलत रास्ते पर जाने से रोकता है, मेरी खुशियों के लिए खुद को तकलीफों की भट्टी में झोकता है। ऐसा ही है मेरा प्यारा दोस्त जिसकी दोस्ती मेरे जीवन भर की कमाई है।

Mera Priya Mitra पर 200 शब्दों का निबंध

कैसे कह दूँ कि मैं कभी खुद से नहीं मिला, बात तो यह है कि मेरे दोस्त से मिलने के बाद मैंने  जाना कि वो मेरा और मैं उसका साया हूँ। दोस्ती की कोई कीमत नहीं होती, दोस्ती में कोई मतलब नहीं होता, इस बात को बड़े अच्छे से जानता है मेरा प्यारा दोस्त।

हर एक नई सुबह में वो मेरी आँखों के देखे सपनों को पूरा करने के लिए निकल जाता है, उसकी आहाट ही मुझे मेरे वजूद से मिलाती है। उसके बिना मैं खुद की कल्पना तक नहीं कर सकता, क्योंकि मैं जानता हूँ कि मेरा अस्तित्व मेरे दोस्त की खुशियों पर टिका हुआ है।

मेरी बातों को शब्द पूरे होने से पहले जान जाता है, मेरे सुख-दुःख को मेरा दोस्त अच्छे से पहचान जाता है। उसका मजाकिया अंदाज़ मुझे तकलीफों से लड़ने के लिए प्रेरित करता है, उस बातूनी का बेख़ौफ़ बोलना ही मुझ बेजान में जान फूँक जाता है। मैं सोच भी नहीं सकता कि मेरे ऐसे कौन से अच्छे कर्म रहे होंगे, जो मेरी उससे दोस्ती हुई।

ज़माने से थोड़ा अलग है मेरा दोस्त, जो किसी को भी तकलीफ में देखकर खुश नहीं रह सकता है। मेरा दोस्त मेरी पहचान है, मेरा दोस्त ही जान है। कैसे कोई इंसान रह सकता है दोस्ती के बिना कभी, बस यही सोचकर मैं घबरा जाता हूँ क्योंकि कोई इंसान अपने साए के बिना नहीं रह सकता है।

मेरी प्रिय सखी पर 300 शब्दों का निबंध

मेरी प्रिय सखी!

जीवन की परिभाषा में यदि दोस्ती के बिना सारे रिश्तें जोड़ दिए जाए, तो जीवन की परिभाषा अधूरी कहलाएगी। दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसमें प्यार, गुस्सा, मजाक, तीखी-मीठी नोकझोक आदि भावनाओं का समावेश होता है। इंसान से निस्वार्थ भाव से जुड़ा रिश्ता ही दोस्ती कहलाता है।

मुझे कभी भी दुःखी नहीं देख सकती है, मेरी प्रिय सखी! मुझे हँसाने के लिए अतरंगी हरकतों को अंजाम देती है मेरी सतरंगी सी सखी। मेरी आँखों में आंसू देख दुनिया से भिड़ने को तैयार रहती है, वो मेरी ख़ुशी से लिए कभी मुझसे, कभी सबसे तो कभी खुद से लड़ने को तैयार रहती है।

मेरी प्रिय सखी! मेरी रूह की तरह मेरा हर अच्छे-बुरे काम में साथ देती है। मेरी सहेली मेरी पीड़ाओं को खुद पर हँसते-हँसते ले लेती है, उसका अंदाज़ ही इतना निराला है कि वो मेरी बातें सुनने को ज़माने को भी अनसुना कर देती है। मेरी अच्छी यादों को वो और भी अच्छे से सजोकर रखती है, मेरे दिल के आँगन पर वो जैसे अपना हक़ समझती है।

मेरी तबियत ख़राब में वो माँ की तरह मेरा ख्याल रखती है, मैं घर से दूर हूँ इसका मुझे जरा भी वो एहसास नहीं होने देती। मेरी हर परेशानी उसकी है वो मुझ पर कोई ऊँगली नहीं उठने देती। भाई और पापा के जैसे वो मुझे समाज की बुरी नज़रों से बचती है, तभी तो बस वो ही मेरी सबसे अच्छी और सबसे सच्ची सहेली कहलाती है।

उसके जैसी दोस्ती कहाँ मुझे कहीं और मिलेगी, उसकी आहाट में मेरा अस्तित्व छुपा है। उसकी बातों से मुझे प्रेरणा मिलती है, उसकी पलकों पर मेरा देखा हर ख्वाब बड़ी सहजता से सजा है। ऐसी दोस्त के बारे में जितना लिखा जाए उतना कम है क्योंकि वो मेरे अपार प्यार और इस सम्मान की इकलौती हक़दार है। मेरी प्रिय सखी मेरे लिए किसी वरदान से कम नहीं है, एक ऐसा वरदान जिससे मुझे मेरी सच्ची खुशियों का पता मिलता है।

Best Friend Essay in Hindi 300 शब्दों में 

प्रस्तावना .

मेरे सबसे अच्छे दोस्त का नाम वैभव है, एक ऐसा दोस्त जो मुझे मुझसे ज्यादा पहचानता है। यूं तो दोस्ती के पवित्र रिश्ते पर लिखने व दोस्तों की दोस्ती की एहमियत को समझने के लिए शब्दों के सागर कम पढ़ सकते हैं, लेकिन फिर भी इसके लिए एक सार्थक प्रयास तो किया ही जाना चाहिए। हमारी दोस्ती को आज 5 साल हो गए हैं। मेरा दोस्त मेरे जीवन के संघर्ष रथ का सारथी है।

मित्रता की विशेषता

एक साथ एक ही स्कूल से शुरू हुई यह दोस्ती आज अपने 5 साल पूरे कर चुकी है, जबकि हर साल एक सदी के समान बीता। इस दोस्ती की ये खासियत रही कि समझदारी के साथ, निस्वार्थ भाव से हमने इतना लंबा सफर तय किया। इस दोस्ती में हम एक दूसरे का आईना और साया बनकर कदम से कदम मिलकर चले।

इस दोस्ती की कुछ खास यादें

 यूँ तो दोस्ती में हर पल खास ही होता है, पर सबसे ज्यादा खास लम्हें तब माने जाते हैं, जब आप चौतरफा परेशानियों से घिरें हों और कोई आपका न साथ दे, फिर भी जब आपका सच्चा दोस्त आपका साथ देता है तो वह लम्हें और भी खास हो जाते हैं। मुझे एक नई दुनिया से मिलाना हो या बेरोजगारी के दौर में मुझे रोजगार दिलवाना हो, या बुरे वक़्त में मुझे हमेशा प्रेरित करना हो, यह सब खास लम्हें हमारी अतरंगी यारी में रहे।

जीवन में एक न एक दोस्त तो ऐसा ही होना चाहिए जो आपकी रीढ़ की हड्डी बनकर आपको टैंकर चलना सीखा सके, आपको जीवन जीना सीखा सके। Best Friend Essay in Hindi का यह ब्लॉग हमारी यारी को ही समर्पित है।

My Best Friend Essay 10 Lines

Best Friend Essay in Hindi के माधयम से आप अपने सच्चे दोस्त के लिए My Best Friend Essay 10 Lines में निबंध कैसे लिखें, यह जान पाएंगे। जिसके उदाहरणस्वरुप आप निम्नवत निबंध को देख सकते हैं-

  • मेरे सबसे अच्छे और सबसे सच्चे दोस्त का नाम “हरमन सिंह” है।
  • कॉलेज के दौरान हुई हमारी यारी को आज तकरीबन 8 साल हो गए हैं।
  • हमारी यारी में हरमन का होना ऐसा है जैसा कि इन फ़िज़ाओं में हवाओं का होना।
  • जिस यारी में हम पहले बस यार थे, आज उसी यारी में हम यार से बढ़कर भाई बन चुके हैं।
  • हरमन की समझदारी ने हमेशा मुझे एक सही राह दिखाया है।
  • जैसे हवाओं के तेज झरोखों से दिए की लौ फड़फड़ाती है, ठीक वैसे ही हमारी यारी को देख तकलीफें  फड़फड़ाने लगती हैं।
  • हरमन जैसा मजाकिया यार मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है।
  • ऐसी यारी है हमारी जैसे कि किसी बड़ी रियासत का कोई अनमोल खजाना हो।
  • मेरे सपनों के पूरा हो जाने में मेरा दोस्त हरमन का बड़ा हाथ है।
  • मेरे दोस्त, दोस्ती की परिभाषा को पूरी तरह सार्थक करता है।

बेस्ट Best Friend Essay in Hindi

नीचे बेस्ट बेस्ट Best Friend Essay in Hindi का एक सैंपल निबंध दिया जा रहा है –

यूँ तो मेरे पास बचपन से ही बहुत सारे दोस्त हैं लेकिन रमा मेरी सबसे अच्छी दोस्त है। रमा स्कूल के टाइम से ही अपने माता-पिता के साथ मेरी कॉलोनी में रहती है। रमा जैसी सहेली का मिलना मेरे लिए गर्व की बात है, रमा का स्वाभाव बचकाना मगर दिल का साफ़ और मददगार है, उसके इसी पाक व्यवहार के लिए मैंने उसको अपनी सहेली बनाया था। जीवन को सही दिशा देने में और सफलताओं के शीर्ष तक पहुंचने के लिए सच्ची दोस्ती की आवश्यकता पड़ती ही है। मैं खुशनसीब हूँ कि मुझे रमा जैसी दोस्त मिली।

हमारी यारी का ये सुहाना सफर

मेरी और मेरी दोस्त रमा की गहरी दोस्ती को 38 साल पूरे हो गए हैं, हम दोनों का जो हाल कभी बचपन में हुआ करता था वही आज भी जस का तस है। जीवन में अनेकों सुख दुःख देखने के बाद आज हमारी यारी अपने 38 साल पूरे कर चुकी है। रमा को देखकर लगता है कि नियति ने उसे सताया ही है, इतने दुखों और पीड़ाओं का भार उठाने के बाद भी उसने कभी भी अपना बचपना नहीं छोड़ा।

“कभी तो रमा खुलकर हँसती है, कभी-कभी वो खुलकर रोती है

 वो जैसे संघर्षों की मूरत है, जो मासूमियत के आँगन में सोती हैं…”

सच्चे दोस्त सौभग्यशाली लोगों को ही नसीब होते हैं, जिस इंसान का कोई दोस्त नहीं होता वो हमेशा तन्हा, अधूरा और अकेला रहता है। यह अकेलापन आपको आप से ही दूर कर देता है, दोस्ती की एहमियत समझें और खुद की यारी पर गर्व महसूस करना सीखें।

आशा करते हैं कि आपको इस ब्लाॅग में Mera Priya Mitra, Best Friend Essay in Hindi पढ़ने को मिली होंगी। Friendship Day से संबंधित अन्य ब्लॉग पढ़ने के लिए Leverage Edu के साथ बनें रहें।

' src=

मयंक विश्नोई

जन्मभूमि: देवभूमि उत्तराखंड। पहचान: भारतीय लेखक । प्रकाश परिवर्तन का, संस्कार समर्पण का। -✍🏻मयंक विश्नोई

प्रातिक्रिया दे जवाब रद्द करें

अगली बार जब मैं टिप्पणी करूँ, तो इस ब्राउज़र में मेरा नाम, ईमेल और वेबसाइट सहेजें।

Contact no. *

browse success stories

Leaving already?

8 Universities with higher ROI than IITs and IIMs

Grab this one-time opportunity to download this ebook

Connect With Us

25,000+ students realised their study abroad dream with us. take the first step today..

my true friend essay in hindi

Resend OTP in

my true friend essay in hindi

Need help with?

Study abroad.

UK, Canada, US & More

IELTS, GRE, GMAT & More

Scholarship, Loans & Forex

Country Preference

New Zealand

Which English test are you planning to take?

Which academic test are you planning to take.

Not Sure yet

When are you planning to take the exam?

Already booked my exam slot

Within 2 Months

Want to learn about the test

Which Degree do you wish to pursue?

When do you want to start studying abroad.

September 2024

January 2025

What is your budget to study abroad?

my true friend essay in hindi

How would you describe this article ?

Please rate this article

We would like to hear more.

HindiVyakran

  • नर्सरी निबंध
  • सूक्तिपरक निबंध
  • सामान्य निबंध
  • दीर्घ निबंध
  • संस्कृत निबंध
  • संस्कृत पत्र
  • संस्कृत व्याकरण
  • संस्कृत कविता
  • संस्कृत कहानियाँ
  • संस्कृत शब्दावली
  • Group Example 1
  • Group Example 2
  • Group Example 3
  • Group Example 4
  • संवाद लेखन
  • जीवन परिचय
  • Premium Content
  • Message Box
  • Horizontal Tabs
  • Vertical Tab
  • Accordion / Toggle
  • Text Columns
  • Contact Form
  • विज्ञापन

Header$type=social_icons

  • commentsSystem

Paragraph on True Friendship in Hindi सच्चे मित्र पर अनुछेद लेखन

Paragraph on True Friendship in Hindi सच्चे मित्र पर अनुछेद लेखन : सुख-दुख में साथ रहने वाला व्यक्ति ही सच्चा मित्र होता है। सच्चा मित्र अपने स्वार्थों से ऊपर उठकर अपने मित्र को बुराई की राह पर चलने से बचाता है। वह अपने मित्र को न तो कभी भटकने देता है और न ही सही रास्ता भूलने देता है। सदैव उसे सही रास्ते पर चलाने की कोशिश करता है और संकट के समय कभी उसका साथ नहीं छोड़ता। सच्चा मित्र अपना विवेक सदैव जगाए रखकर मित्र का विवेक भी जगाए रखता है।

sachcha mitra

Advertisement

Put your ad code here, 100+ social counters$type=social_counter.

  • fixedSidebar
  • showMoreText

/gi-clock-o/ WEEK TRENDING$type=list

  • गम् धातु के रूप संस्कृत में – Gam Dhatu Roop In Sanskrit गम् धातु के रूप संस्कृत में – Gam Dhatu Roop In Sanskrit यहां पढ़ें गम् धातु रूप के पांचो लकार संस्कृत भाषा में। गम् धातु का अर्थ होता है जा...

' border=

  • दो मित्रों के बीच परीक्षा को लेकर संवाद - Do Mitro ke Beech Pariksha Ko Lekar Samvad Lekhan दो मित्रों के बीच परीक्षा को लेकर संवाद लेखन : In This article, We are providing दो मित्रों के बीच परीक्षा को लेकर संवाद , परीक्षा की तैयार...

RECENT WITH THUMBS$type=blogging$m=0$cate=0$sn=0$rm=0$c=4$va=0

  • 10 line essay
  • 10 Lines in Gujarati
  • Aapka Bunty
  • Aarti Sangrah
  • Akbar Birbal
  • anuched lekhan
  • asprishyata
  • Bahu ki Vida
  • Bengali Essays
  • Bengali Letters
  • bengali stories
  • best hindi poem
  • Bhagat ki Gat
  • Bhagwati Charan Varma
  • Bhishma Shahni
  • Bhor ka Tara
  • Boodhi Kaki
  • Chandradhar Sharma Guleri
  • charitra chitran
  • Chief ki Daawat
  • Chini Feriwala
  • chitralekha
  • Chota jadugar
  • Claim Kahani
  • Dairy Lekhan
  • Daroga Amichand
  • deshbhkati poem
  • Dharmaveer Bharti
  • Dharmveer Bharti
  • Diary Lekhan
  • Do Bailon ki Katha
  • Dushyant Kumar
  • Eidgah Kahani
  • Essay on Animals
  • festival poems
  • French Essays
  • funny hindi poem
  • funny hindi story
  • German essays
  • Gujarati Nibandh
  • gujarati patra
  • Guliki Banno
  • Gulli Danda Kahani
  • Haar ki Jeet
  • Harishankar Parsai
  • hindi grammar
  • hindi motivational story
  • hindi poem for kids
  • hindi poems
  • hindi rhyms
  • hindi short poems
  • hindi stories with moral
  • Information
  • Jagdish Chandra Mathur
  • Jahirat Lekhan
  • jainendra Kumar
  • jatak story
  • Jayshankar Prasad
  • Jeep par Sawar Illian
  • jivan parichay
  • Kashinath Singh
  • kavita in hindi
  • Kedarnath Agrawal
  • Khoyi Hui Dishayen
  • Kya Pooja Kya Archan Re Kavita
  • Madhur madhur mere deepak jal
  • Mahadevi Varma
  • Mahanagar Ki Maithili
  • Main Haar Gayi
  • Maithilisharan Gupt
  • Majboori Kahani
  • malayalam essay
  • malayalam letter
  • malayalam speech
  • malayalam words
  • Mannu Bhandari
  • Marathi Kathapurti Lekhan
  • Marathi Nibandh
  • Marathi Patra
  • Marathi Samvad
  • marathi vritant lekhan
  • Mohan Rakesh
  • Mohandas Naimishrai
  • MOTHERS DAY POEM
  • Narendra Sharma
  • Nasha Kahani
  • Neeli Jheel
  • nursery rhymes
  • odia letters
  • Panch Parmeshwar
  • panchtantra
  • Parinde Kahani
  • Paryayvachi Shabd
  • Poos ki Raat
  • Portuguese Essays
  • Punjabi Essays
  • Punjabi Letters
  • Punjabi Poems
  • Raja Nirbansiya
  • Rajendra yadav
  • Rakh Kahani
  • Ramesh Bakshi
  • Ramvriksh Benipuri
  • Rani Ma ka Chabutra
  • Russian Essays
  • Sadgati Kahani
  • samvad lekhan
  • Samvad yojna
  • Samvidhanvad
  • sanskrit biography
  • Sanskrit Dialogue Writing
  • sanskrit essay
  • sanskrit grammar
  • sanskrit patra
  • Sanskrit Poem
  • sanskrit story
  • Sanskrit words
  • Sara Akash Upanyas
  • Savitri Number 2
  • Shankar Puntambekar
  • Sharad Joshi
  • Shatranj Ke Khiladi
  • short essay
  • spanish essays
  • Striling-Pulling
  • Subhadra Kumari Chauhan
  • Subhan Khan
  • Sudha Arora
  • Sukh Kahani
  • suktiparak nibandh
  • Suryakant Tripathi Nirala
  • Swarg aur Prithvi
  • Tasveer Kahani
  • Telugu Stories
  • UPSC Essays
  • Usne Kaha Tha
  • Vinod Rastogi
  • Wahi ki Wahi Baat
  • Yahi Sach Hai kahani
  • Yoddha Kahani
  • Zaheer Qureshi
  • कहानी लेखन
  • कहानी सारांश
  • तेनालीराम
  • मेरी माँ
  • लोककथा
  • शिकायती पत्र
  • हजारी प्रसाद द्विवेदी जी
  • हिंदी कहानी

RECENT$type=list-tab$date=0$au=0$c=5

Replies$type=list-tab$com=0$c=4$src=recent-comments, random$type=list-tab$date=0$au=0$c=5$src=random-posts, /gi-fire/ year popular$type=one.

' border=

  • अध्यापक और छात्र के बीच संवाद लेखन - Adhyapak aur Chatra ke Bich Samvad Lekhan अध्यापक और छात्र के बीच संवाद लेखन : In This article, We are providing अध्यापक और विद्यार्थी के बीच संवाद लेखन and Adhyapak aur Chatra ke ...

Join with us

Footer Logo

Footer Social$type=social_icons

  • loadMorePosts
  • relatedPostsText
  • relatedPostsNum

दा इंडियन वायर

हमारे जीवन में दोस्त के महत्व

my true friend essay in hindi

By विकास सिंह

Essay on Importance of Friends in our Life in hindi

यह ठीक ही कहा गया है, “मित्र वह परिवार है जिसे हम स्वयं चुनते हैं”। दोस्तों का होना उतना ही ज़रूरी है जितना एक परिवार का होना। अच्छे दोस्त हर चरण में हमारी मदद, मार्गदर्शन और समर्थन करते हैं। दोस्त हमें भावनात्मक समर्थन देते हैं, वे मुश्किल समय के दौरान हमारी मदद करते हैं और हमें विशेष महसूस कराते हैं। धन्य हैं वे, जिनके जीवन में सच्चे मित्र हैं।

हमारे जीवन में दोस्त के महत्व, 200 शब्द:

दोस्त हर किसी के लिए बेहद जरूरी होते हैं। चाहे वह बच्चा हो, किशोर हो, मध्यम आयु वर्ग का व्यक्ति हो या बूढ़ा – सभी को जीवन जीने के लिए अच्छे दोस्तों की जरूरत होती है।

बचपन के दौरान, दोस्ती हमें साझा करने और देखभाल करने की आदत को समझने और विकसित करने में मदद करती है। छोटे बच्चे तेजी से दोस्ती विकसित करते हैं और अपने दोस्तों के साथ का आनंद लेते हैं। वे एक साथ खेलते हैं और सीखते हैं। उनके उचित विकास और विकास के लिए मित्र महत्वपूर्ण हैं। किशोरों के रूप में, दोस्त हमारे लिए सभी महत्वपूर्ण बन जाते हैं। हम अपनी किशोरावस्था के दौरान कई भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक परिवर्तनों से गुजरते हैं।

इस उम्र के दौरान आने वाली कई समस्याओं पर हमारे माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ चर्चा नहीं की जा सकती है। हालाँकि, हम अपने दोस्तों के साथ इन्हें साझा करने में काफी सहज हैं। अच्छे दोस्त होना जो हमारे मुद्दों को सुन सकते हैं और हमें समर्थन और मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं वास्तव में इस उम्र के दौरान एक आशीर्वाद हैं। हम सभी ने मध्य जीवन संकट के बारे में सुना है। इन दिनों अधिक से अधिक लोग इस समस्या से पीड़ित हैं।

उनके परिवार, नौकरी, बच्चे और लगभग सभी और आसपास की सभी चीजें इस उम्र में उनके लिए एक बोझ के रूप में दिखाई देने लगती हैं। इस समय के आसपास अच्छे दोस्त होने से इस भावनात्मक उथल-पुथल के बीच सकारात्मकता लाने में मदद मिल सकती है। बुढ़ापे के दौरान दोस्त भी उतने ही महत्वपूर्ण होते हैं। बढ़ते परमाणु परिवार प्रणाली के साथ जोड़े अपने बुढ़ापे के दौरान अकेले रह जाते हैं। अगर उनके आसपास दोस्त हैं, तो उनका जीवन नीरस बनने के बजाय हर्षित और दिलचस्प बना रहता है।

हमारे जीवन में दोस्त के महत्व, Essay on Importance of Friends in our Life in hindi (300 शब्द)

दोस्तों हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। जब हम अच्छे दोस्त होते हैं, तो जीवन अधिक सुखद और सुखद हो जाता है। यहां तक ​​कि एक वास्तविक दोस्त हमारे जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकता है। यहाँ क्यों दोस्त महत्वपूर्ण हैं इसके बारे में जानकारी है:

समर्थन: सच्चे दोस्त एक-दूसरे के बेहद समर्थक होते हैं। वे विभिन्न स्तरों पर एक दूसरे का समर्थन करते हैं। वे अध्ययन और अन्य गतिविधियों की बात आने पर मदद का विस्तार करके एक दूसरे में सर्वश्रेष्ठ लाने में मदद करते हैं। जब भी मुझे कोई क्लास छूट जाती है तो मेरे दोस्त हमेशा मेरे साथ अपने नोट्स साझा करने के लिए तैयार रहते हैं।

यह मेरे लिए एक बड़ी मदद है। वे एक भावनात्मक समर्थन के रूप में भी कार्य करते हैं। जब भी मैं भावनात्मक रूप से आहत होता हूं, तो मैं अपने सबसे अच्छे दोस्त की ओर मुड़ जाता हूं। वह जानती है कि ऐसे समय में मुझे कैसे शांत किया जाए और मेरा समर्थन किया जाए।

दिशा निर्देश:  अच्छे दोस्त भी हमारे सबसे अच्छे मार्गदर्शक होते हैं। वे वहां हर कदम पर हमारा मार्गदर्शन करते हैं। जब भी मुझे अपने रिश्तों को संभालने, अपनी पढ़ाई का प्रबंधन करने या अन्य गतिविधियों में भाग लेने के बारे में सलाह की जरूरत होती है, तो मेरे दोस्त वहां मेरा मार्गदर्शन करते हैं।

जब भी मैं भावनात्मक रूप से टूटता हूं तो वे मेरा मार्गदर्शन करने के लिए भी वहां होते हैं। वे मुझे जीवन में सकारात्मकता देखने और नकारात्मकता को दूर करने में मदद करते हैं।

आनदं:  इस तथ्य से कोई इनकार नहीं है कि दोस्त होने से जीवन अधिक मजेदार और सुखद होता है। दोस्तों के आसपास रहना बेहद मजेदार और रोमांचक है। मुझे दोस्तों के साथ ट्रिप पर जाना बहुत पसंद है। हालांकि मैं पारिवारिक यात्राओं का आनंद लेता हूं लेकिन दोस्तों के साथ नियोजित यात्राओं पर आनंद बस बेमिसाल है।

दोस्तों के साथ पार्टी करना, घंटों उनके साथ गपशप करना, उनके साथ शॉपिंग और फिल्मों के लिए जाना और पागल गतिविधियों में लिप्त होना जो केवल आपका समूह ही समझ सकता है, सभी बेहद मजेदार हैं।

निष्कर्ष:

मैं मेरी तरह ही पागलपन वाले दोस्तों को अपनी ज़िन्दगी में पाकर हर्षित और भाग्यशाली महसूस करता हूँ। वे मेरे जीवन को अद्भुत और जीवन से भरपूर बनाते हैं।

हमारे जीवन में दोस्त के महत्व, 400 शब्द:

प्रस्तावना:.

दोस्ती दुनिया में सबसे खूबसूरत रिश्ता माना जाता है। हम अपने परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों के विपरीत अपने दोस्तों का चयन करते हैं जो हमारे जीवन का एक हिस्सा बनते हैं चाहे हम उन्हें चाहते हैं या नहीं। ऐसा व्यक्ति जिसके पास अच्छे दोस्तों का एक समूह है, वह उन लोगों की तुलना में अधिक खुश है जो इसे नहीं करते हैं।

दोस्तों से भावनात्मक सहयोग बढ़ाएँ:

यदि आपके पास जीवन में एक भी अच्छा दोस्त है, तो आपको पता चल जाएगा कि मेरा क्या मतलब है। अन्य बातों के अलावा, मैं भावनात्मक समर्थन देने के लिए अपने दोस्तों को संजोता हूं। जीवन में ऐसे कई उदाहरण हैं जब हम भावुक हो जाते हैं और बस किसी से अपने दिल की बात कहना चाहते हैं।

कई चीजें हैं जो हम अपने माता-पिता और भाई-बहनों के साथ साझा नहीं कर सकते हैं ताकि उन्हें चोट पहुंचाने या उनके गुस्से का सामना करने के डर से। यह तब है जब हम अपने दोस्तों की ओर रुख कर सकते हैं। अच्छे दोस्त हमेशा आपकी बात सुनने के लिए होते हैं। वे आपके मुश्किल समय के दौरान आपके लिए वहां होते हैं जब आपके पास एक भावनात्मक प्रकोप होता है।

कभी-कभी, हम सभी को कोई ऐसा व्यक्ति चाहिए जो किसी निर्णय को पारित किए बिना और हमारे बारे में कोई राय बनाए बिना हमारी बात सुन सके। इस प्रकार का आराम स्तर केवल दोस्तों में पाया जाता है। वे हमारी बात सुनते हैं और हमें उस भावनात्मक दौर में लाने में मदद करते हैं।

मुझे वह समय याद है जब मेरी मां या बहन के साथ बहस होती है या किसी कारण से मेरे पिता या शिक्षक से डांट मिलती है, तो मेरे लिए अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करना बहुत मुश्किल हो जाता है जब तक कि चीजें हल न हो जाएं। मैं बस यही सोचता रहता हूं कि मुझे ऐसी स्थिति के लिए नहीं कहना चाहिए था या नहीं करना चाहिए था। मैं लगभग भावनात्मक रूप से टूट जाता हूं और अपराध यात्रा पर जाता हूं।

ये वो समय होते हैं जब मुझे अपने दोस्तों की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। मैं चीजों को हल करने के लिए सलाह के लिए उनकी ओर मुड़ता हूं। कभी-कभी, उनकी सलाह कई बार काम करती है। हालांकि, उनके सामने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने से मुझे बहुत बेहतर महसूस हो सकता है। मुझे पता है कि मेरे पास कोई है जिसे मैं भावनात्मक स्थिति से सामना करने पर कभी भी गिर सकता हूं।

वे स्थिति को बदलने में सक्षम हो सकते हैं या नहीं, लेकिन कम से कम वे मुझे यह याद दिलाकर कि मुझे सिर्फ एक इंसान होने के लिए दोषी महसूस करने से उबरने में मदद मिलेगी और मुझे खुद पर ज्यादा कठोर नहीं होना पड़ेगा।

मैं खुशकिस्मत हूं कि मेरे पास वास्तव में कुछ अद्भुत दोस्त हैं। वे मेरे परिवार के रूप में ताकत और मेरे लिए महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। उनके बिना मेरा जीवन बेहद सुस्त होता।

हमारे जीवन में दोस्त के महत्व पर निबंध, 500 शब्द:

यह सही कहा गया है, “सच्ची दोस्ती जीवन में अच्छे को बढ़ाती है और उसकी बुराइयों को विभाजित करती है। दोस्तों के साथ रहने के लिए प्रयास करें, दोस्तों के बिना जीवन एक रेगिस्तान द्वीप पर जीवन की तरह है ”। मित्रता वास्तव में हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है। सच्चे दोस्त भगवान से आशीर्वाद हैं। वे हमारे जीवन को जीने लायक बनाते हैं।

टॉडलर्स के लिए दोस्तों का महत्व:

यह देखा गया है कि जब एक घर में एक ही आयु वर्ग के दो बच्चे होते हैं, तो वे एक परिवार में एकल बच्चे की तुलना में विभिन्न स्तरों पर तेजी से बढ़ते और विकसित होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे समान हितों को साझा करते हैं, समान गतिविधियों में लिप्त होते हैं, खेलते हैं, आनंद लेते हैं और एक-दूसरे से सीखते हैं। हालाँकि, दुर्भाग्य से, आज के समय में, अधिकांश परिवारों में एकल बच्चा है।

अधिकांश बच्चों को नौकरानियों या उनकी माँ के साथ अकेला छोड़ दिया जाता है जो पहले से ही कई अन्य जिम्मेदारियों से भरी हुई हैं कि वे अपने बच्चों पर पर्याप्त ध्यान देने में असमर्थ हैं। यह उनकी शारीरिक और मानसिक वृद्धि को बाधित करता है। जबकि नाभिकीय परिवार प्रणाली समय की आवश्यकता बन गई है, हम दोस्ती का निर्माण करने में मदद करके बच्चों के समुचित विकास को सुनिश्चित कर सकते हैं।

माता-पिता को अपने बच्चों को पार्कों में ले जाना चाहिए जहां वे एक ही उम्र के बच्चों को पा सकते हैं। अपनी उम्र के बच्चों के आसपास रहना उनके लिए एक आनंदमय अनुभव है। जब वे दोस्तों से घिरे होते हैं तो वे सही तरीके से खेलते हैं, सीखते हैं और बढ़ते हैं।

इन दिनों इतने सारे प्ले स्कूलों की स्थापना का यह भी एक मुख्य कारण है। जिन बच्चों को प्ले स्कूलों में भेजा जाता है, वे साझा करना और देखभाल करना और बेहतर ढंग से बढ़ना सीखते हैं। वे उन लोगों की तुलना में नियमित स्कूल को लेने के लिए बेहतर तैयार हैं जो प्ले स्कूल में नहीं जाते हैं।

वृद्धावस्था के दौरान मित्रों का महत्व:

पहले संयुक्त परिवार प्रणाली थी। लोग अपने विस्तारित परिवारों के साथ रहते थे और उनके साथ हर अवसर को आनन्दित करते थे। उन्होंने विभिन्न कार्यों के साथ एक-दूसरे की मदद और समर्थन किया। मित्र अभी भी महत्वपूर्ण थे और उनकी उपस्थिति ने हर अवसर के समग्र मूड को जोड़ा।

इसके अलावा, हमेशा ऐसी कई चीजें होती हैं जिन्हें कोई अपने परिवार के सदस्य के साथ साझा नहीं कर सकता है लेकिन आसानी से दोस्तों के साथ साझा कर सकता है। हालांकि, बढ़ती परमाणु परिवार प्रणाली ने लोगों को दोस्तों के महत्व को अधिक महसूस किया है।

सिर्फ युवा जोड़े और बच्चे ही नहीं, बूढ़े और महिलाएं भी एक अच्छे मित्र मंडली की जरूरत महसूस करते हैं। इन दिनों बूढ़े लोगों को अकेला छोड़ दिया जाता है क्योंकि उनके बच्चे पेशेवर और व्यक्तिगत कारणों से बाहर जाते हैं। जिन लोगों के पास एक अच्छा मित्र मंडली होती है वे अपने बच्चों के जीवन में व्यस्त होने के बाद भी अच्छी तरह से जीवित रह सकते हैं, जिनके मित्र नहीं होते हैं वे अक्सर अकेलापन महसूस करते हैं और अवसाद में आ जाते हैं या ऐसी अन्य बीमारियों को जन्म दे देते हैं।

इसलिए, पुरानी पीढ़ी के लोगों को, इन दिनों गंभीरता से कुछ अच्छे दोस्तों की जरूरत है। बूढ़े लोगों को एक-दूसरे के साथ बंधन में मदद करने के लिए कई क्लब और समाज बनाए गए हैं।

जहां दोस्त अपनी बढ़ती उम्र में बच्चों के साथ-साथ पुरानी पीढ़ी के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं, वहीं अन्य आयु वर्ग के लोगों को भी दोस्ती के तोहफे की जरूरत होती है। दोस्त हमें जीवन में बहुत कुछ सिखाते हैं और हमें मजबूत बनाते हैं। वे हमारे परिवार की तरह महत्वपूर्ण हैं।

हमारे जीवन में दोस्तों का महत्व, Essay on Importance of Friends in our Life in hindi (600 शब्द)

दोस्त हमारे जीवन को खास बनाते हैं। यदि आपके पास मित्र नहीं हैं तो आप केवल अस्तित्व में हैं, आप सच्चे अर्थों में जीवित नहीं हैं। दोस्ती के महत्व पर बार-बार जोर दिया गया है और अवधारणा को खत्म नहीं किया गया है।

क्यों काम पर दोस्त होने महत्वपूर्ण है?

इन दिनों कॉरपोरेट कार्यालयों में बहुत प्रतिस्पर्धा है। लोगों को लंबे समय तक काम करने, सप्ताहांत पर काम करने और यहां तक ​​कि नियमित रूप से आधिकारिक दौरे पर जाने की आवश्यकता होती है। बहुत काम का दबाव है और ऐसी स्थिति में जीवन बेहद तनावपूर्ण हो सकता है। हालांकि ऐसा नहीं होता जब काम पर दोस्त होते हैं।

जब आप अपने सहयोगियों में दोस्त पाते हैं, तो आपका कार्यस्थल एक दिलचस्प जगह बन जाता है और आप अपने कार्यालय जाने के लिए तत्पर रहते हैं। आप जानते हैं कि आस-पास ऐसे लोग हैं जो समान मात्रा में काम के दबाव और तनाव से गुजर रहे हैं। उनके साथ बातचीत करना, काम के माहौल के बारे में अपनी भावनाओं को बाहर निकालना और काम के दबाव को संभालने के लिए उन्हें सुझाव देना, जिससे आप बहुत बेहतर महसूस कर सकते हैं।

जब किसी कारण से आपका बॉस आप पर चिल्लाता है या आपको छोड़ देता है या आपके लिए अवास्तविक लक्ष्य निर्धारित करता है तो आपको भावनात्मक समर्थन की आवश्यकता होती है। कार्यालय में दोस्त होने से ऐसे कारणों से होने वाले तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है क्योंकि वे आपकी स्थिति को सबसे अच्छी तरह समझते हैं। तब कार्यालय केवल काम में डूबने या अपने बॉस से निर्देश लेने के लिए एक जगह नहीं रह जाता है, यह जीविका बन जाता है।

यह देखा गया है कि जिन लोगों के कार्यालय में दोस्त होते हैं, वे लंबे समय तक संगठन से चिपके रहते हैं और कम छुट्ठी लेते हैं। हालांकि, कॉर्पोरेट दुनिया में लोग अक्सर स्वार्थी रूपांकनों के साथ दोस्त बनाते हैं। इसलिए, किसी भी महत्वपूर्ण जानकारी को साझा करने से पहले या अपने सहकर्मियों के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ने से पहले, दोस्तों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे वास्तव में आपकी दोस्ती में दिलचस्पी रखते हैं और इसलिए नहीं कि आपके साथ होने से उन्हें किसी तरह से फायदा होता है।

दोस्त हमारी पर्सनैलिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं:

कल्पना करें कि आप किस तरह के व्यक्ति बनेंगे यदि आपके जीवन में केवल स्कूल जाना और घर वापस आना शामिल है, यदि आप स्कूल में पढ़ाई करते हैं और बाहर की दुनिया के साथ न्यूनतम बातचीत के साथ अपने घर तक ही सीमित रहते हैं? आपका जीवन बेहद नीरस और उबाऊ हो जाएगा। कई लोग इन दिनों ऐसे जीवन जीते हैं जैसे वे बूढ़े हो गए हैं।

यह विशेष रूप से गृहिणियों के साथ होता है जो ज्यादातर समय अपने घरों तक ही सीमित रहती हैं और बाहर दोस्ती नहीं करती हैं। इस तरह वे आत्मविश्वास खो देते हैं। वे सामाजिक रूप से अजीब हो जाते हैं और अंततः मौका मिलने पर लोगों के साथ बाहर जाना और घुलना-मिलना पसंद नहीं करते। उनमें से कई डिप्रेशन में भी चले जाते हैं। दोस्त होने से जीवन जीने लायक बन जाता है। वे हमारे व्यक्तित्व को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

दोस्तों से घिरे लोग भावनात्मक रूप से मजबूत होते हैं। वे उन लोगों की तुलना में अधिक आश्वस्त हैं जिनके पास मजबूत दोस्ती नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके पास मुद्दों पर चर्चा करने, अपनी भावनाओं को बाहर निकालने, सलाह लेने और बाहर जाने के लिए आसपास के लोग हैं।

हॉस्टल लाइफ को बेस्ट माना जाता है:

हॉस्टल जीवन को किसी व्यक्ति के जीवन में सबसे अच्छा समय माना जाता है और इसका मुख्य कारण यह है कि वे इस दौरान दोस्तों से घिरे होते हैं। दोस्तों के आसपास होने में बहुत मज़ा आ सकता है। यही कारण है कि एक ऐसी जगह जहां हम परिवार से दूर होते हैं, अपने दम पर सभी अच्छे भी दिख सकते हैं। इस समय दोस्तों के महत्व को महसूस किया जा सकता है और आसपास अच्छे दोस्त होने का एक आशीर्वाद हो सकता है। हॉस्टल में बनने वाले अधिकांश मैत्री बंधन जीवन भर चलते हैं। दोस्त एक-दूसरे को भावनात्मक सहायता प्रदान करने के लिए हैं। कम होने पर वे हमें खुश करते हैं, पढ़ाई में हमारी मदद करते हैं, खरीदारी के लिए हमारे साथ किलोमीटर की यात्रा करते हैं और विभिन्न मज़ेदार गतिविधियों में शामिल होते हैं।

दोस्त हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं। वे हमारे जीवन में जीवंतता जोड़ते हैं। दोस्तों के बिना जीवन काफी नीरस और उबाऊ हो सकता है।

[ratemypost]

इस लेख से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Related Post

एडसिल विद्यांजलि छात्रवृत्ति कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ, 70 छात्रों को मिलेगी 5 करोड़ की छात्रवृत्ति, कोचिंग सेंटरों के लिए सरकार ने बनाए सख्त नियम, विज्ञापनों में झूठ बोलने पर होगी कार्रवाई, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कला उत्सव 2023 का किया उद्घाटन, one thought on “हमारे जीवन में दोस्त के महत्व”.

I needed help in writing this essay… It was really helpful

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Electoral Bonds : गुपचुप चंदा “सूचना के अधिकार (RTI Act, 2005)” के ख़िलाफ़, सुप्रीम कोर्ट ने बताया असंवैधानिक

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 2024 की थीम ‘विकसित भारत के लिए स्वदेशी तकनीक’ हुआ लॉन्च, एफिल टॉवर पर लहराया upi का झंडा, डिजिटल भुगतान क्रांति हुई वैश्विक.

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend Essay in Hindi

In this article, we are providing My Best Friend Essay in Hindi | Mera Priya Mitra Par Nibandh, मेरा प्रिय मित्र पर निबंध हिंदी | Nibandh in 100, 200, 250, 300, 500 words For Students & Children.

दोस्तों हमने Mera Priya Mitra   Nibandh | Essay on My Best Friend in Hindi लिखा है मेरा प्रिय मित्र पर निबंध हिंदी में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, और 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है। 5 simple Essay on My Best Friend in Hindi language.

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend Essay in Hindi 10 lines ( 100 words )

1. राहुल मेरा प्रिय मित्र है।

2. हम पहली कक्षा से साथ-साथ पढ़ते आए हैं। तभी से हमारी अच्छी मित्रता हो गई है।

3. राहुल बहुत अच्छा लड़का है। वह सभी से प्रेम और आदर से बात करता है।

4. हमारी भी आपस में कभी लड़ाई नहीं हुई।

5. राहुल पढ़ाई में चुस्त और अध्यापकों का भी प्रिय है। वह खेल-कूद में भी आगे रहता है।

6. राहुल सदा अपनी चीजें मुझसे बाँटता है और पढ़ाई में मेरी सहायता करता है।

7. राहुल के साथ रहकर मैंने भी खेल-कूद का महत्त्व समझ लिया है।

8. हम पाठशाला के बाद नियमित रूप से घुड़सवारी के लिए जाते हैं।

9. मेरे माता-पिता भी राहुल को बहुत पसंद करते हैं।

10. पिता जी कहते हैं कि अच्छी संगति से ही हम आगे बढ़ सकते हैं।

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- Mera Priya Mitra Nibandh | Essay ( 120 words )

मेरे कई मित्र हैं। पर मेरा प्रिय मित्र रोहन है। उसके प्यार का नाम टिंकू है।

रोहन मेरी ही उम्र का है। हम एक ही कक्षा में पढ़ते हैं। वह पढ़ाई लिखाई में बहुत होशियार है। गणित पढ़ने में वह मेरी मदद करता है। मैं उसे चित्रकारी सीखाता हूँ |

हम सदा साथ खेलते, पढ़ते और चित्रकारी करते हैं। हममें कभी लड़ाई भी हो जाती है| रोहन ही सदा सुलह करता है। वह बहुत नम्र है। बाद में मैं अपनी गलती की माफी माँगता हूँ|

रोहन बहुत अच्छा लड़का है। वह सदा बड़ों का आदर करता है। सभी उसे चाहते हैं।

मैं चाहता हूँ रोहन सदा मेरे साथ रहे। हम सदा अच्छे मित्र रहें।

Essay on My Family in Hindi Essay on My Father in Hindi

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend Essay in Hindi ( 200 words )

अच्छा मित्र एक दुर्लभ वस्तु है। आज के युग में जहाँ स्वार्थ ही सब कुछ है, अच्छा मित्र पाना एक वरदान जैसा ही है। इस मामले में मैं बड़ा भाग्यशाली हूँ। मेरे तीन-चार मित्र हैं, परन्तु मेरा प्रिय मित्र विकास है। वह मूल रूप से कानपूर का रहने वाला है। पर अब वह पिछले कई वर्षों से दिल्ली में ही रह रहा है। उसके पिता एक ऊँचे पद पर सरकारी कर्मचारी हैं। माँ एक कुशल गृहणी हैं।

विकास और मैं एक ही कक्षा में पढ़ते हैं और कक्षा में पास-पास ही डेस्कों पर बैठते हैं। वह रोहिणी में रहता है और मैं पीतमपुरा में। अतः एक-दूसरे से ज्यादा दूर नहीं रहते। इसीलिए एक-दूसरे के घर आना-जाना तो लगा ही रहता है। उसके माता-पिता मुझे विकास जैसा ही प्यार करते हैं। मेरे माता-पिता का भी विकास पर अपार स्नेह है।

विकास एक होनहार छात्र है। कक्षा में हमेशा प्रथम आता है। उसकी स्मरण-शक्ति असाधारण है। लेकिन उसे तनिक भी घमण्ड नहीं है। पढ़ने-लिखने में वह मेरी सहायता करता है। उसको और मुझे दोनों को बागवानी का शौक़ है। हम दोनों इस विषय पर जब-तब बातचीत करते हैं और पेड़-पौधों की प्रदर्शनियाँ भी देखने जाते हैं। मेरे घर के पीछे एक अपना छोटा-सा उद्यान है। उसे सजाने-संवारने में हम दोनों मित्र अपना खाली समय लगाते हैं।

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend | Mera Priya Mitra Essay in Hindi ( 300 words )

मेरा नाम रोनित है। मैं कक्षा 8 का छात्र हूँ। यूँ तो मेरी कक्षा में बहुत से विद्यार्थी पढ़ते हैं। लेकिन इन सबमें मैं अमन को बहुत पसन्द करता हूँ। वह मेरा सबसे अच्छा दोस्त है। वह एक होशियार तथा मेहनती छात्र है।

अमन छरहरे शरीर का सुन्दर लड़का है। वह अच्छे परिवार से सम्बन्ध रखता है। उसके पिता सरकारी डॉक्टर है। उसकी माता एक कॉलेज में अध्यापिका हैं। वह भी मुझसे अत्यन्त प्रेम करता है।

वह सदैव साफ स्कूल की पोशाक पहनकर विद्यालय आता है। वह विद्यालय नियमित आता है। वह पढ़ने में होशियार है। उसका सपना बड़े होकर इंजीनियर बनने का है। वह सदैव अपना गृहकार्य पूरा रखता है। वह मेरा गृहकार्य करने में भी मेरी सहायता करता है। जब मुझे कोई परेशानी होती है, तो वह सदैव मेरी सहायता करता है। एक सच्चे मित्र के सभी गुण उसमें मौजूद हैं।

वह विद्यालय में भी अनुशासन के साथ रहता है। वह अपने अध्यापकों की आज्ञा पालन करता है। वह उन्हें कभी किसी शिकायत का अवसर नहीं देता है। उसके सभी अध्यापक भी उसकी प्रशंसा करते हैं।

वह गरीब बच्चों की भी आर्थिक मदद करता है। वह एक धनी डॉक्टर का पुत्र है, किन्तु उसे अपने धनी होने का तनिक भी घमण्ड नहीं है। वह अपनी कक्षा के गरीब बच्चों की फीस, ड्रेस तथा किताबों का व्यवस्था भी अपने पिताजी से कहकर करवाता है।

वह अच्छे विचारों तथा उत्तम स्वभाव का लड़का है। वह अपना समय कभी बर्बाद नहीं करता है। वह विद्यालय के विभिन्न खेलों में भी भाग लेता है। वह विद्यालय की हॉकी टीम का सदस्य है। उसे महापुरुषों की जीवनियाँ पढ़ने तथा उनसे प्रेरणा प्राप्त करने का भी शौक है। वह रोज समाचार पत्र पढ़ता है। वह मुझे भी अधिक पढ़ने तथा समय बर्बाद न करने की प्रेरणा देता है। खाली समय में वह मेरे साथ खेलता है। वास्तव में अमन सच्चा मित्र है तथा ईश्वर की ओर से दिया गया एक वरदान है।

My Birthday Essay in Hindi Diwali Essay in Hindi

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- Long Essay on My Best Friend in Hindi ( 500 words )

मनुष्य को उसके जीवन में आने वाली विघ्न-बाधाएँ हमेशा परेशान करती रहती हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए उसे परस्पर सहयोग की आवश्यकता होती है। यह केवल मित्रता के द्वारा ही सम्भव है। इसलिए प्रत्येक मनुष्य का कोई-न-कोई सच्चा मित्र होता है।

सच्चे मित्र की पहचान

जीवन में मित्र तो बहुत मिल जाते हैं किन्तु सच्चे मित्र का मिलना बहुत ही कठिन है। वास्तव में सच्चे मित्र की पहचान करना तो बहुत ही कठिन कार्य है। सच्चा मित्र तो वह होता है जो विपत्ति में साथ देता है। सच्चे मित्र के सम्मुख हम अपने मन की सभी बातें खोलकर रख सकते हैं। वह अपने मित्र को कुमार्ग से बचाकर सत्य मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है। मित्र के अवगुणों पर पर्दा डालकर उन्हें दूर करने की कोशिश करता है और उसकी अच्छाइयों की प्रशंसा करता है।

मेरा प्रिय मित्र

सचिन ही मेरे सुख-दुःख का साथी है। वह मेरा प्रिय मित्र है। उसमें वे सभी गुण विद्यमान हैं जो एक सच्चे मित्र में होने चाहिएँ। वह मेरा पड़ोसी भी है और मेरे साथ ही कक्षा में पढ़ता है। उसकी आयु लगभग 16 वर्ष की है। वह नियमितता का पालन करने वाला है और मुझे भी नियमितता के लिए बाध्य करता है। वह अध्ययन के समय अध्ययन करता है और खेलने के समय खेलता है। वह अपने समय को व्यर्थ नष्ट नहीं करता है। अतः वह प्रत्येक कार्य समय पर करना पसन्द करता है। हमारा अधिकांश समय एक साथ ही व्यतीत होता है। पढ़ाई के विषय में हम दोनों के मध्य स्वस्थ स्पर्धा रहती है। हम दोनों परीक्षा में प्रायः एक-दो अंकों से आगे-पीछे रहते हैं। मेरे मित्र के अन्य गुण-मेरा मित्र सचिन गुणों की खान है। वह

अनुशासन-प्रिय बालक है। वह सदैव प्रातः काल सैर करने जाता है। वह सदैव अपने स्वास्थ्य और स्वच्छता का ध्यान रखता है। वह समय पर पाठशाला जाता है तथा वहाँ मन लगाकर पढ़ता है। वह अपने अध्यापकों की बातों को ध्यान से सुनकर उस पर अमल करता है। इसलिए वह सदैव अपनी कक्षा में सर्वप्रथम रहता है। उसकी खेलों में भी रुचि है। वह प्रथम श्रेणी का खिलाड़ी है। इतना ‘ ही नहीं वह समाज सेवा में भी खूब भाग लेता है अर्थात् वह दीन-दुःखी व्यक्ति की समय पड़ने पर सहायता करता रहता है। उसके मधुर व्यवहार से पड़ोसी भी खुश रहते हैं। उसके अधरों पर सदैव मुस्कान बनी रहती है।

आज इस स्वार्थपरता के युग में गौतम जैसा सच्चा मित्र मिलना सौभाग्य की बात है। वह हमेशा मुझे उन्नति के शिखर पर देखना चाहता है। वह सदैव मुझ पर तन, मन, धन न्यौछावर करने के लिए तत्पर रहता है। उसका मेरे प्रति अटूट प्रेम है। वह छल, कपट तथा स्वार्थ से सदैव दूर रहता है, इसीलिए प्रत्येक उसे अपना मित्र बनाने को तैयार रहता है। सचिन के इन गुणों के कारण उसके माता-पिता, विद्यालय व उसके साथियों को उस पर गर्व है। मेरी प्रभु से यही प्रार्थना है कि हमारी मैत्री जीवन-पर्यन्त बनी रहे ताकि विपत्ति के समय एक-दूसरे की सहायता कर सकें।

———————————–

इस लेख के माध्यम से हमने Mera Priya Mitra Par Nibandh | My Best Friend Essay in Hindi का वर्णन किया है और आप यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।

मेरा प्रिय मित्र पर निबंध पर निबंध हिंदी में Class 1 से 12 तक My Best Friend essay in hindi for class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 My Best Friend per nibandh

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

my true friend essay in hindi

1Hindi

पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi

पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi

बड़े बुजुर्ग हमेशा कहते हैं की पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र होती हैं। बचपन में जब हम छोटे थे तो माँ पुस्तकों में चित्र दिखाकर ही हमे कहानियाँ सुनाया करती थी। नर्सरी की कक्षा में पुस्तकों में केला, आम, अमरूद, इमली, पतंग जैसी अनेक चीजें दिखाकर ही हमारे टीचर पढ़ाते थे ।

धीरे-धीरे हम सभी बढ़ते चले जाते हैं और इसके साथ हमारी पुस्तकें भी बदलती जाती हैं। कॉलेज या विश्वविद्दालय में आ जाने पर हमारी पुस्तकें और मोटी हो जाती है। एक पुस्तक सदैव अच्छी मित्र होती है। सभी लोग यह कहते है।

Table of Content

पुस्तकों को बहुत सी श्रेणी में बांटा जा सकता है जैसे स्कूल की पुस्तकें, कॉलेज और विश्वविद्यालय की पुस्तकें, डिक्शनरी, साहित्यिक पुस्तकें जैसे आत्मकथा, उपन्यास , रेखाचित्र, व्यंग, आलोचना, कहानियां, इत्यादि। कॉलेज में हर विषय की अपनी अलग पुस्तके होती हैं।

इंजीनियरिंग की अलग पुस्तके होती हैं, डॉक्टरी का कोर्स करने वालों के लिए अलग पुस्तके होती हैं। इसी तरह वकालत के लिए मोटी मोटी पुस्तकें होती हैं जिसमें सभी तरह के कानूनी, नियम और धाराएं लिखी होती हैं। आईएस (IAS) पीसीएस (PCS) जैसी प्रशासनिक परीक्षाओं के लिए अलग पुस्तके होती हैं।

पुस्तको से हमें हर तरह का ज्ञान प्राप्त होता है। इतिहास की पुस्तक पढ़कर हमें पता चलता है कि कौन सा राजा किस प्रकार का था, किस तरह वह राज्य करता था और उसने अपने राज्य में क्या सुधार किए।

उसी तरह भूगोल की पुस्तक पढ़कर हमें विश्व और अपने देश की जलवायु, ऋतुओं, फसलों, नदी, पर्वत, जंगलों मौसम इत्यादि के बारे में जानकारी मिलती है। नागरिक शास्त्र की पुस्तक पढ़कर हमें अपने देश के संवैधानिक ढांचे की जानकारी मिलती है।

पुस्तकों को निम्न प्रकार से वर्गीकृत किया जा सकता है-

पुस्तकों के प्रकार –

  •         स्कूल की पुस्तकें
  •         कॉलेज और विश्वविद्यालय की पुस्तकें
  •         धार्मिक पुस्तकें
  •         शब्दकोश (डिक्शनरी) पुस्तकें
  •         साहित्यिक पुस्तकें
  •         प्रतियोगी परीक्षाओं की पुस्तकें  
  •         सरकार द्वारा जारी की गयी सरकारी रिपोर्ट्स रूपी पुस्तकें

पुस्तकों से लाभ Benefits of Books

ज्ञान का स्रोत.

पुस्तक पढ़कर हम सभी को ज्ञान प्राप्त होता है। अपने शहर, प्रदेश, देश ही नहीं विश्व के बारे में हमें सभी जानकारियां पुस्तक पढ़ कर ही प्राप्त होती हैं। अब आधुनिक तकनीक के जमाने में इंटरनेट पर सभी तरह की पुस्तकों की इ-बुक (e-book) में मौजूद है। अब हम सभी अपने मोबाइल फोन, कंप्यूटर पर ही हर तरह की पुस्तक पढ़ सकते हैं ।

बच्चों को अच्छी शिक्षा और संस्कार देती हैं

पुस्तक पढ़ कर ही हमें अच्छे संस्कार प्राप्त होते हैं। हमें पता चलता है कि बुरे काम नहीं करने चाहिए, रिश्वत नहीं लेनी चाहिए, झूठ नहीं बोलना चाहिए, चोरी नहीं करना चाहिए।  सभी धर्मों का सम्मान, बड़ों का आदर, छोटों को प्यार देना चाहिये।

यह सब हमें पुस्तक पढ़ कर ही पता चलता है। पुस्तके हमें बताती हैं कि किसी से भी ईर्ष्या, द्वेष नहीं करना चाहिए। सभी को अपना भाई बहन समझना चाहिए।

पुस्तकों के बिना कोई शिक्षित नहीं बन सकता

क्या आपने कभी सोचा है कि यदि पुस्तके ही ना होती तो आप किस प्रकार शिक्षा पाते। इसलिए हम सभी को पुस्तकों का आभारी होना चाहिए। बच्चों के शिक्षा पाने में पुस्तकें महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। सभी चीजें बोलकर नहीं समझाई, सिखाई जा सकती है।

उनको लिखना आवश्यक होता है। जब कोई बालक अपनी पुस्तक में किसी पाठ को दो-तीन बार पड़ता है तो उसे पाठ अच्छी तरह कंठस्थ होता है। उच्च शिक्षा पाकर हम सभी अच्छी नौकरी पाते हैं। इसलिए पुस्तकों का महत्व हम सभी के जीवन में सदैव बना रहता है।

पुस्तकें रोजगार पैदा करती हैं

वर्तमान में पुस्तकों का व्यवसाय बहुत बढ़ गया है। इस काम में हजारों लाखों का मुनाफा होता है इसलिए अनेक लोग अब पुस्तकों का व्यवसाय करने लगे हैं। छोटे व्यापारी पुस्तकें बेचने का काम करने लगे हैं।

जबकि बड़े पूंजीपति प्रिंटिंग प्रेस लगाकर पुस्तकें प्रकाशित करते हैं और उन्हें देशभर के बजारों में वितरित करते हैं। वो सभी अच्छा मुनाफा कमाते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तो पुस्तकों का बाजार बहुत ही गर्म है। हर प्रतियोगी परीक्षा होने से पहले ही उसकी पुस्तकें बाजार में आ जाती हैं। सभी विद्यार्थी ऐसी कॉम्पटीशन बुक्स को बड़ी संख्या में खरीदते हैं।

वर्तमान में ई पुस्तकों (E- Books) बहुत प्रचलित हो गई है

घर घर में कंप्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल फोन आ जाने से अब सभी पुस्तकें सॉफ्ट कॉपी के रूप में उपलब्ध हैं। पाठक उन्हें कभी भी अपने मोबाइल फोन या कंप्यूटर पर आसानी से पढ़ सकता है। अब लाइब्रेरी में जाकर घंटों समय देकर पुस्तकें ढूंढने की जरूरत खत्म हो गई है। अब किसी भी पुस्तक को कुछ ही सेकंड में सॉफ्ट कॉपी में डाउनलोड करके आसानी से पढ़ा जा सकता है ।  

पुस्तक लेखन में कैरियर

बहुत से लोग पुस्तक लेखन का काम करते हैं। उन्होंने इसे अपना करियर बना लिया है। कुछ लोग आत्मकथा, कहानी आलोचना रेखाचित्र संस्मरण उपन्यास एकांकी जैसी साहित्यिक किताबें लिखते हैं तो कुछ लोग शब्दकोश जैसी पुस्तकें लिखते हैं। आज के समय में अनेक लेखक पुस्तकें लिखकर अच्छा लाभ कमा रहे हैं ।

खाली समय बिताने का सर्वश्रेष्ठ साधन

अक्सर कई लोग खाली समय होने पर पुस्तक पढ़ते हैं। इससे हमें ज्ञान भी मिलता है और नई नई बातें भी पता चलती हैं । बुजुर्ग, वृद्ध लोगों को खाली समय में धार्मिक पुस्तकें जैसे गीता, रामायण , रामचरितमानस पढ़ना पसंद होता है। रामचरितमानस के दोहों को पढ़कर उन्हें अत्यधिक प्रसन्नता मिलती है।

इतिहास की जानकारी मिलती है

क्या आपने कभी सोचा है कि यदि इतिहासकार इतिहास को पुस्तकों में लिखते ही नहीं तो क्या होता? आज से हजारों साल पहले की सभी बातें पुस्तकों में दर्ज है। यदि इतिहासकार उन्हें लिखते ही नहीं तो हमें कभी प्राचीनकाल के राजा महाराजाओं, लोगो, उनकी संस्कृति, सभ्यता , परम्परा, खान-पान, रीति रिवाजों, विश्वास पहनावा, धार्मिक जानकारियों के बारे में नहीं पता चल पाता। इस तरह पुस्तकों में लिखकर ज्ञान को रिकॉर्ड कर दिया जाता है जो भविष्य की पीढ़ी के काम आता है।   

पुस्तकें भावी पीढ़ी की मदद करती हैं

यह बात पूरी तरह प्रमाणिक है। डॉक्टर बीमारियों / महामारी का इलाज ढूंढ कर उसका उपचार पुस्तकों में दर्ज कर देते हैं। इसी तरह वैज्ञानिक अपनी नई खोज और तकनीक को पुस्तकों में दर्ज कर देते हैं। जिससे हमारी भावी पीढ़ी को उस ज्ञान के बारे में पता चल सके।

4 thoughts on “पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi”

This was very helpful for all of us……

Thanks a lot for this essay it helped a lot for my Hindi exam.

It’s very useful and it really helped me a lot for my hindi essay exam thank u soooooo much ☺️☺️

It helped me for my hindi home work and exam also it so interesting

Leave a Comment Cancel reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed .

HiHindi.Com

HiHindi Evolution of media

पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध Trees Our Best Friend In Hindi

Trees Our Best Friend In Hindi पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध: जीवन में जो हमारा साथ निभाता है उसे हम मित्र कहते हैं. पेड़ पौधे भी हमारे जीवन के लिए अपना सब कुछ त्याग कर देते हैं.

trees are our friends पेड़ हमारे लिए एक मित्र के रूप में हमें अपनी ठंडी छाँव, प्राणदायी ऑक्सीजन, ईमारती लकड़ी व हमारे पर्यावरण में संतुलन बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं.

आज trees our best friend essay, Paragraph, Speech में हम पेड़ों के महत्व के बारे में विस्तार से जानेगे.

पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध Trees Our Best Friend In Hindi

मानव का पेड़ पौधों के साथ अटूट रिश्ता रहा हैं. भारतीय संस्कृति में प्रकृति के अन्य चीजों की तरह पेड़ों की पूजा भी की जाती हैं. बरगद, तुलसी, नीम, खेजड़ी, पीपल जैसे पेड़ों में देवों का वास माना गया हैं.

हम पेड़ों के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. हमारी प्रकृति में पेड़ सबसे बड़े परोपकारी हैं वे हमारे लिए अपना सब कुछ निस्वार्थ ही दान कर देते हैं.

पेड़ हमें प्राणवायु ऑक्सीजन प्रदान कर जीवन प्रदान करते ही हैं, साथ ही हरे भरे पेड़ वर्षा में ही सहायक हैं. घने जंगल बाढ़ आदि को रोकने तथा मिट्टी के कटाव को रोकने में अहम भूमिका निभाते हैं.

पेड़ पौधे वातावरण को स्वच्छ बनाने तथा संतुलन बनाने की महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. हमारे द्वारा छोड़ी गई co2 को अपनी श्वसन क्रिया में उपयोग कर बदले में ऑक्सीजन प्रदान करते हैं. 

यदि धरा पर पेड़ नहीं होंगे तो समस्त भूमि बंजर एवं मरुस्थल में तब्दील हो जाएगी. पेड़ों के कई लाभ हैं ये हमें फल फूल यूँ ही उपहार में देते हैं. हमारे घर बनाने की इमारती लकड़ी तथा ईधन के लिए लकड़ी भी वनों से ही प्राप्त होती हैं.

सुदूर हिमालय तथा वनों में कई जीवनउपयोगी प्रजाति के पेड़ व झाड़ियाँ पाई जाती हैं, जिनसे हमारे जीवन रक्षक दवाइयों का निर्माण होता हैं. इस तरह न केवल पेड़ हमें जीवन देते है बल्कि स्वास्थ्य में भी अपना योगदान देते हैं.

पेड़ हमारे मित्र निबंध Essay On Trees Our Best Friend In Hindi Language

पेड़ हमारे सबसे अच्छे मित्र हैं, वे बेस्वार्थ हमें अपने अमूल्य रत्न देते हैं. मगर यह विडम्बना ही है कि हम पेड़ों को अपना दुश्मन मान बैठे हैं. निरंतर पेड़ों की कटाई करने से बाज नहीं आ रहे हैं, वन निरंतर समाप्त हो रहे हैं.

प्रदूषण की समस्या ने सम्पूर्ण पर्यावरण को जकड़ लिया हैं. हमने जिस सुरक्षा कवच को तोड़ने का साहस किया है, यदि समय रहते हमने अपनी नादानियाँ बंद नही की तो इसका परिणाम बेहद भयानक होगा.

हमें चाहिए कि हम पेड़ों को अपना मित्र समझे, समय समय पर वृक्षारोपण करे तथा लोगों को भी जागरूक करे, ताकि भविष्य में आने वाली बड़ी समस्याओं को समय रहते टाला जा सके.

पेड़ कई प्राकृतिक आपदाओं में हमारे रक्षक के रूप में पहरा देते हैं. हमें यह संदेश जन जन तक पहुचाकर तेजी से हो रही वृक्षों की कटाई पर रोकथाम लगानी होगी.

धरती पर पेड़ ही हमारे सबसे अच्छे मित्र हैं, हम उन्हें एक बाल्टी भर पानी और उसकी देखभाल तक नहीं कर सकते मगर पेड़ अपना कर्तव्य पूर्ण निष्ठा के साथ निभाते हैं.

परोपकारी पेड़ों से सीखकर हमें उनकी इस ईमानदारी के साथ कर्तव्य पालन के गुण को अपनाना चाहिए. तेज गर्मी में जब शरीर तर बतर हो जाता है तो पेड़ ही हमारा सहारा बनते है तथा अपनी ठंडी छाव में हमें विश्राम करने का अवसर देते हैं.

व्यक्ति जब भी जीवन में थकावट महसूस करता हैं. तो वह हरी भरी हरियाली तथा घने पेड़ों से सुसज्जित प्रकृति की गोद में जा बैठता हैं. प्रकृति का यह हरा रंग, एकांत का माहौल, स्वच्छ वायु जीवन में नई ताजगी एवं उत्साह भर देते हैं.

हम पर्यटन के लिए वनों का रूख करते है, क्योंकि घने पेड़ों के बीच हमारे मन को शान्ति मिलती हैं. मगर हम इसी तरह प्रकृति के दुश्मन बनकर मित्र रुपी पेड़ों को काटना जारी रखेगे तो हरा रंग देखने तथा हरियाली के दर्शन को आँखे तरस जाएगी.

सोचिये यदि पेड़ नहीं होते तो क्या हम अपना घर, घर में काम आने वाली लकड़ी की वस्तुएं उपयोग में ले पाते. क्या जून महीने की दोपहरी में छायादार वृक्षों की छाया जैसा आनन्द हमें कोई एयरकंडिशनर दे पाएगा.

पेड़ों का सुकून उनके हमारे घरों बगीचों एवं खेतों में लहलहाते समय ही मिलता हैं. हमें तमाम तरह के फल और फूल इन पेड़ों की ही देन हैं जो पाताल से जल सोखकर आम, केला, नारियल, सेब जैसे हजारों फल व सब्जियां मुफ्त में देकर हमारा पेट भरने का काम करते हैं.

इसमें कोई संदेह नहीं है कि भगवान् ने पेड़ों को हमारा सच्चा मित्र बनाकर भेजा हैं. वे एक सच्चे मित्र की तरह हमारे सूखी जीवन के लिए अपना सब कुछ निस्वार्थ ही दे देते हैं.

हम निस्वार्थी होकर उन्ही पेड़ों को काटने जैसा पाप करते हैं. आज हमें संकल्प लेना चाहिए, कि आज के बाद कोई भी हरा पेड़ हम न काटेगे बल्कि हर साल नयें पेड़ लगाएगे.

पेड़ मनुष्य के मित्र निबंध Essay On Trees Our Best Friend In Hindi

वृक्षों का महत्व – वृक्ष और मानव दोनों ही प्रकृत्ति की सन्तान हैं. वृक्ष अग्रज है जो उन पर निर्भर मानव उनके अनुज है. हमारे जीवन में वृक्षों का सदा से ही महत्व रहा हैं. वृक्ष हमारे सच्चे मित्र हैं.

सुख दुःख के साथी हैं. इनका ह्रदय बड़ा उदार हैं. ये हमें देते ही देते हैं. हमसे बदले में केवल मित्रता की अपेक्षा रखते हैं. ये पर्यावरण के संरक्षक हैं. वृक्षों के अभाव में सुखी और सम्रद्ध जीवन की कल्पना असम्भव हैं.

वृक्षों के लाभ- वृक्षों का सामूहिक नाम वन या जंगल हैं. प्रकृति ने मनुष्य को अपार वन सम्पदा की अमूल्य भेट दी हैं. हमारे जीवन के लगभग हर क्षेत्र में वृक्षों की महत्वपूर्ण उपस्थिति हैं. वृक्षों से हमें अनेक लाभ हैं.

  • वृक्ष हमें सुंदर प्राकृतिक दृश्यों का स्रजन करते हैं. मन की प्रसन्नता और शांति प्रदान करते हैं.
  • वृक्षों से हमें अनेक प्रकार के लाभदायक और आवश्यक पदार्थ प्राप्त होते हैं. ईधन, चारा, फल, फूल, औषधियाँ आदि अनेक वस्तुएं हैं.
  • अनेक उद्योग वृक्षों पर आश्रित हैं. फर्निचर उद्योग, भवन निर्माण उद्योग, खाद्य पदार्थ, तेल मसाले, अनाज आदि से सम्बन्धित उद्योग, औषधि उद्योग वृक्षों पर ही निर्भर हैं.
  • वृक्ष पर्यावरण को शुद्ध करते हैं. बाढ़ों को रोकते हैं. वर्षा को आकर्षित करते हैं. उपयोगी मिटटी के क्षरण को रोकते हैं.

वृक्षों का विकास- ऐसे निष्कपट, परोपकारी सच्चे मित्रों का विकास करना हमारा नैतिक ही नहीं लाभप्रद दायित्व भी हैं.

यदपि प्रकृति स्वयं वृक्षों का विकास करती हैं. किन्तु आज के उद्योग प्रधान और सुख साधनों पर केन्द्रित मानव जीवन ने वृक्षों के विनाश में ही अधिक योगदान किया हैं.

मानव समाज का विकास वृक्षों के विकास का शत्रु सा बन गया हैं. अतः हमें वृक्षों के विकास और संरक्षण पर अधिक ध्यान देना चाहिए.

वृक्षों का विकास अधिकाधिक वृक्षारोपण और वनों, उपवनों, पार्कों आदि के संरक्षण से ही संभव हैं. नई नई योजनाओं में वृक्षों की अविवेकपूर्ण और अंधाधुंध कटाई पर नियंत्रण आवश्यक हैं.

वृक्षों और वनों के साथ ही मानव जाति का कुशल क्षेम जुड़ा हुआ हैं. अतः वन संपदा का संरक्षण परम आवश्यक हैं. वृक्षारोपण और वृक्ष संरक्षण को एक अभियान के रूप में चलाना शासन का दायित्व हैं.

हमारा दायित्व- यदपि शासन और प्रशासन के स्तर से वृक्ष संरक्षण की दिशा में अधिक सक्रियता की आशा हैं. तथापि हमारा अर्थात समाज के प्रत्येक वर्ग का, यह दायित्व हैं कि वह अपनी अपनी क्षमता और संसाधनों से वृक्षमित्रों की सुरक्षा में तत्पर हो.

वृक्षों को हानि पहुचाने वालों की सूचना ngt राष्ट्रीय हरित न्यायिकरण को दे. राष्ट्रीय, धार्मिक तथा सामाजिक पर्वों, उत्सवों दिवसों आदि पर वृक्षारोपण कराए जाए, छात्र छात्राएं वृक्षारोपण में विशेष रूचि ले.

गृहिणिया घरों में गृह वाटिकाएं लगाने में रूचि ले. विवाह में गोदान नहीं, वृक्ष दान की परम्परा चलाए. समाज के प्रतिस्थित और प्रभावशाली महाशय विभिन्न आयोजनों में तथा मिडिया के माध्यम से वृक्षों की सुरक्षा और आरोपण की प्रेरणा दे.

पर उपकारी विरछ सौ, नाहिं बिरछ सौ मित्र पाथर मारें देत फल, तरु की नीति विचित्र

  • आम के पेड़ के बारे में
  • पेड़ बचाओ पर स्लोगन 
  • पेड़ों का महत्व पर निबन्ध 

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों  का यह लेख अच्छा लगा होगा. Trees Our Best Friend In Hindi पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध में ped Par Nibandh, Essay On Tree, Ped Humare Mitra, Importance Of Trees, Save Trees Essay In Hindi Language, 5 line, 10 Line का यह लेख पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Nibandh

पेड़ हमारे मित्र पर निबंध

ADVERTISEMENT

पेड़ धरतीमाता के प्यारे बेटे हैं। पेड़ों से हमें तरह तरह के फल मिलते हैं। फल खाने से शरीर स्वस्थ रहता है। पेड़ों के फूलों से खुशबू मिलती है। गरमी में पेड़ों की छाया बहुत सुखद होती है। पेड़ हमें प्राणवायु ऑक्सीजन प्रदान कर जीवन प्रदान करते ही हैं, साथ ही हरे भरे पेड़ वर्षा में ही सहायक हैं।

पेड़ अन्य कामों में भी आते हैं। पेड़ों से हमें लकड़ी मिलती है लकड़ी से छत, दरवाजे, खिड़कियाँ, कुर्सी, मेज आदि चीजें बनती हैं। कई पेड़ों की जड़, छाल और पत्तियों से दवाइयाँ बनती हैं। पेड़ पौधे वातावरण को स्वच्छ बनाने तथा संतुलन बनाने की महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

सचमुच, पेड़ हमारे सच्चे मित्र हैं। हमें उनकी रक्षा करनी चाहिए।

Nibandh Category

IMAGES

  1. 10 lines essay on friendship in hindi

    my true friend essay in hindi

  2. Short Essay On Friendship Day In Hindi

    my true friend essay in hindi

  3. Mera priya mitra per nibandh || My best friend essay in hindi

    my true friend essay in hindi

  4. Short Essay On Friendship Day In Hindi

    my true friend essay in hindi

  5. मेरा प्रिय मित्र पर 10 लाइन का निबंध l 10 Lines Essay On My Best Friend

    my true friend essay in hindi

  6. My best friend essay in hindi

    my true friend essay in hindi

VIDEO

  1. my best friend essay for speaking

  2. CBSE v ICSE- My Best friend essay #shorts

  3. मित्रता पर हिंदी में निबंध

  4. My best friend essay

  5. to my true friend u know who u are

  6. My best friend essay in urdu

COMMENTS

  1. मेरा अच्छा दोस्त पर निबंध (My Best Friend Essay in Hindi)

    मेरा अच्छा दोस्त पर निबंध (My Best Friend Essay in Hindi) By अर्चना सिंह / July 19, 2023. मित्रता एक ऐसा रिश्ता है जो पारिवारिक या खून से संबंधित न होने के बावजूद ...

  2. Essay on a true friend in hindi, article: मेरा अच्छा दोस्त पर निबंध, लेख

    मेरा अच्छा दोस्त पर निबंध, essay on a true friend in hindi (400 शब्द) प्रस्तावना:

  3. True Friend Essay In Hindi

    True Friend Essay In Hindi | सच्चा मित्र पर निबन्ध. मनुष्य अकेला नहीं रह सकता। उसे ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है जिसके समक्ष वह अपने मन के भाव प्रकट ...

  4. सच्ची मित्रता पर निबंध (True Friendship Essay In Hindi)

    आज के इस लेख में हम सच्ची मित्रता पर निबंध (Essay On True Friendship In Hindi) लिखेंगे। सच्ची मित्रता पर लिखा यह निबंध बच्चो और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

  5. Essay on Friends in Hindi

    Essay on Friends in Hindi 200 शब्दों में Essay on Friends in Hindi 500 शब्दों में मित्रों का महत्व मित्रों के साथ जीवन का आनंद मित्रता का योगदान Sacha Mitra Essay in Hindi दोस्त पर 10 लाइन्स FAQs Essay on Friends in Hindi 100 शब्दों में

  6. मेरा सच्चा मित्र निबंध

    मेरा सच्चा मित्र निबंध | My True Friend in Hindi | Hindi Essay | My True Friend Essay in hindi. हमारे कहि मित्र होते हैं पर वह सारे हमारे सच्चे मित्र होते हैं यह कहना सही ना ...

  7. दोस्ती पर निबंध 100, 150, 200, 250, 300, 500 शब्दों मे (Friendship

    मैत्री पर निबंध 10 पंक्तियाँ (Friendship Essay 10 Lines in Hindi) 1) मित्रता उन व्यक्तियों के बीच पारस्परिक बंधन है जो समान मानसिकता या विचार साझा कर सकते ...

  8. हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध

    हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध (Importance of Friends in our Life Essay in Hindi) By अर्चना सिंह / April 23, 2018. किसी ने सही ही कहा है, "दोस्त परिवार हैं जिन्हें हम ...

  9. Essay on True Friendship in Hindi

    Here you will get Paragraph and Short Essay on True Friendship in Hindi Language for students of all Classes in 200 and 400 words. यहां आपको सभी कक्षाओं के छात्रों के लिए हिंदी भाषा में सच्ची दोस्ती पर निबंध मिलेगा। Essay on True Friendship in Hindi - सच्ची दोस्ती पर निबंध

  10. अच्छा दोस्त पर निबंध (A Good Friend Essay in Hindi)

    अच्छा दोस्त पर निबंध - 1 (300 शब्द) - Achha Dost par Nibandh परिचय

  11. Best Friend Essay in Hindi 300 शब्दों में

    Essays in Hindi / Best Friend Essay in Hindi : दोस्ती जैसे महान रिश्ते पर कैसे लिखे निबंध, जानिए यहाँ विस्तार पूर्वक फ्रेंडशिप डे और फ्रेंड पर निबंध के बारे में

  12. Paragraph on True Friendship in Hindi सच्चे ...

    Paragraph on True Friendship in Hindi सच्चे मित्र पर अनुछेद लेखन : सुख-दुख में साथ रहने वाला व्यक्ति ही सच्चा मित्र होता है। सच्चा मित्र अपने स्वार्थों से ऊपर उठकर अपने मित्र ...

  13. मेरा प्रिय मित्र पर निबंध Essay on My Best friend in Hindi

    Essay On My Best Friend In English (1) man is a social creature. he cannot live without society. so friendship is necessary for him. but it is very difficult to have a true friend in this world. there are mostly fair weather friends. by God's grace, I have a fast and true friend. his name is Sankalp. he is my class fellow. he is my childhood ...

  14. दोस्ती या मित्रता पर निबंध Essay in Friendship in Hindi

    What is true friendship in Hindi? जिस प्रकार खजाने को ढूंढना एक कठिन काम होता है, उसी प्रकार एक सच्चे मित्र को ढूंढना भी बेहद मुश्किल कार्य होता है। हालांकि सच्ची मित्रता तो खून का रिश्ता नहीं होता है, लेकिन कभी-कभी उससे भी बढ़कर साबित होता है।

  15. My Friend Essay in Hindi

    हिन्दी निबंध : मेरा प्रिय मित्र. ND. अनुराग मेरा सबसे प्रिय मित्र है। उसका घर मेरे पास ही है। मैं प्रतिदिन उसके घर जाता हूं और उसके साथ ...

  16. Essay on Importance of Friends in our Life in hindi: हमारे जीवन में

    हमारे जीवन में दोस्त के महत्व, Essay on Importance of Friends in our Life in hindi (300 शब्द) दोस्तों हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। जब हम अच्छे दोस्त होते हैं, तो ...

  17. मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend Essay in Hindi

    मेरा प्रिय मित्र पर निबंध- My Best Friend Essay in Hindi 10 lines ( 100 words ) 1. राहुल मेरा प्रिय मित्र है।. 2. हम पहली कक्षा से साथ-साथ पढ़ते आए हैं। तभी से हमारी ...

  18. Paragraph on Friendship in Hindi

    मित्रता पर निबंध (Mitrata) | Essay on Friendship in Hindi. मित्रता अनमोल धन है। इसकी तुलना किसी से भी नहीं की जा सकती है। हीरे-मोती या सोने-चाँदी से भी नहीं ...

  19. my true friend essay in hindi

    सच्ची मित्रता पर निबंध (True Friendship Essay In Hindi) आज के इस लेख में हम सच्ची मित्रता

  20. पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay Books are Our Best Friends

    पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र है पर निबंध Essay on Books are Our Best Friends in Hindi बड़े बुजुर्ग हमेशा कहते हैं की पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र होती हैं। बचपन में जब हम छोटे

  21. Essay on My True Friend in Hindi

    Here is your Essay on My True Friend specially written for School and College Students in Hindi Language: Home ›› Related Essays: Essay on the Value of Art and Ethics in Hindi Sample Essay on "Student and Fashion" in Hindi Sample Essay on "Spring Season" in Hindi Essay on the Relevancy of UNO in the Condition Obtaining at Present in Hindi

  22. पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध Essay Trees Best Friend Hindi

    May 20, 2023 Kanaram siyol HINDI NIBANDH Trees Our Best Friend In Hindi पेड़ हमारे सच्चे मित्र निबंध: जीवन में जो हमारा साथ निभाता है उसे हम मित्र कहते हैं. पेड़ पौधे भी हमारे जीवन के लिए अपना सब कुछ त्याग कर देते हैं.

  23. पेड़ हमारे मित्र पर निबंध

    Essay In Hindi कक्षा 1 से 4 के लिए निबंध कक्षा 5 से 9 के लिए निबंध कक्षा 10 से 12 के लिए निबंध प्रतियोगी परीक्षा के लिए निबंध ऋतुओं पर निबंध त्योहारों ...